मंडी में जहरीली शराब ने पांच गरीब परिवार के कमाने वालों को गटक लिया

0
191

मंडी। नेटवर्क न्यूज़। हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के सुंदरनगर उपमंडल में जहरीली शराब पांच गरीब परिवार के कमाने वालों को गटक गई है। आगे इन परिवारों के पालन पोषण पर संकट है। जहरीली शराब ने 5 परिवारों से उनका मुखिया छीन लिया है। जहरीली शराब पीने से जान गंवाने वाले पांचों लोग बेहद गरीब परिवार से संबंध रखते है। उनकी कमाई से ही घर का चूल्हा जलता था। उनकी आकस्मिक मौत से परिवारों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। शराब माफिया ने महज कुछ रुपये कमाने के लिए उन्हें जहर परोसकर परिवार को कभी न भूलने वाला दर्द दे दिया। जो चार लोग मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं, उनकी हालत भी नाजुक बनी हुई है। उधर, जहरीली शराब से जान गंवाने वाले चार लोगों का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। एक व्यक्ति की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इस कारण उसका अंतिम संस्कार अभी नहीं हो पाया है।

जहरीली शराब के कारण मौत का शिकार बने लाल सिंह (55) पुत्र मनीराम निवासी सुदाहण के तीन बच्चे हैं। इनमें एक लड़की का विवाह हो गया है। दो बेटों को जीवन में कुछ बनाकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाना बाकी था। सुदेश कुमार (49) पुत्र हेम चंद निवासी सलापड़ का बेटा अभी जमा दो कक्षा में पढ़ रहा है। पत्नी कुछ वर्ष पहले पेड़ से गिरने के कारण और भाई पैरालाइज होने से चलने फिरने से मोहताज हैं। मृतक चेतराम (47) पुत्र चमनू राम की पत्नी निजी अस्पताल में काम करती हैं। अपने पीछे वह 21 और 23 वर्ष के दो बच्चों को छोड़ गया है। मृतक रजनीश अपने पीछे 4 बेटियों को छोड़ गया है। मृतक काला राम (52) निवासी कांगू अपने पीछे पत्नी व दो बेटे और रजनीश (40) निवासी खरोटा भी पत्नी और दो बच्चों को छोड़ गए है। देर शाम जब पोस्टमार्टम के बाद शव अंतिम संस्कार के लिए घर पहुंचे को इस दुख की घड़ी में बड़ी संख्या में लोग परिवार को ढांढस बंधाने पहुंचे।
आकस्मिक मौत समझ शुरू कर दी थी संस्कार की तैयारी
सुंदरनगर के कांगू निवासी व्यक्ति की जहरीली शराब का सेवन करने से मंगलवार रात मौत होने के बाद बुधवार तड़के परिजनों ने अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी थी, लेकिन जब पंचायत के अन्य लोगों को पता चला कि सलापड़ क्षेत्र में भी कई लोग शराब के सेवन से अकाल मौत का ग्रास बने हैं और कुछ लोग मौत से अस्पताल में लड़ रहे हैं तो उन्होंने सलापड़ पुलिस चौकी को इसकी सूचना दी। सूचना मिलते ही पुलिस ने तत्काल एक्शन लेकर कांगू पहुंचकर शव को कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए नेरचौक स्थित मेडिकल कॉलेज भेजा। हालांकि, परिजन काला राम की मौत को सहज ही ले रहे थे, लेकिन जब उन्हें पता चला कि शराब का सेवन करना ही मौत का कारण बना है तो वह भी चौंक गए। इसके बाद तत्काल संस्कार की विधि को बंद कर दिया गया और परिजनों सहित ग्रामीण भी नेरचौक मेडिकल कॉलेज पहुंचे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here