बरसाती मौसम में हो गई है फंगल इंफैक्शन तो दही से करें देसी उपचार

0
68

हैलथ : बरसात के दिनों में संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि ह्यूमस और नमी के इस मौसम में बैक्टीरिया की ताक्त बढ़ जाती है। इस मौसम में फंगल इंफेक्शन होना भी एक आम समस्या है जिन्हें ज्यादा पसीना आता है उन्हें ये समस्या अधिक होती है लेकिन अगर इसे रोका ना जाए तो यह स्किन के किसी हिस्से को बुरी तरह प्रभावित कर सकती हैं।

फंगल इंफेक्शन होने पर स्किन पर रेडनेस, लाल चक्कते, रेशेज व खुजली जैसी समस्या महसूस हो सकती है। फंगल इंफेक्शन की समस्या को दूर करने के लिए आप दही का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि दही फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन से लड़ने में मदद करता है। इसे आप कई तरीकों से अपलाई भी कर सकते हैं चलिए उन्हीं तरीकों के बारे में आपको बताते हैं।

रूई की मदद से लगाएं दही

शरीर के जिस हिस्से में आपको इंफेक्शन हो रखा है उस जगह पर कॉटन की मदद से दही लगाएं और हलके हाथ से मसाज करें। दिन में 2 से 3 बार इसे रिपीट करें। इससे जल्द आराम मिलेगा।

दही को तेल के साथ मिक्स करके लगाएं

आप दही को तेल में मिक्स करके भी अप्लाई कर सकते हैं। दही में टी ट्री ऑयल की दो-तीन बूंदे डालकर मिक्स कर लें। दरअसल, टी ट्री ऑयल में पाए जाने वाले एंटीसेप्टिक गुण इंफेक्शन को दूर करने का काम करते हैं। यह ऑयल एंटी फंगल भी होता है इसलिए इसे दही में मिक्स करके इंफेक्शन वाले एरिया में रातभर लगाकर छोड़ दें और सुबह पानी से धोकर उसे सुखा लें। दो से तीन दिन इसे उपाय को करें इंफेक्शन दूर हो जाएगा।

लहसुन और दही का पेस्‍ट

लहसुन भी फंगल इंफेक्शन को दूर करता है। बस इसकी कुछ कलियों को पीस लें और दही के साथ मिक्स करके प्रभावित एरिया में लगा लें। आप इस मिश्रण में नारियल तेल भी मिक्स कर सकते हैं।

दही और कपूर

दही में सिर्फ 5 ग्राम कपूर पीस कर मिक्स करें फिर इस संक्रमण वाली जगह पर मलहम की तरह लगाएं। दही में आप एलोवेरा जेल भी मिक्स कर सकते हैं।

डाइट में शामिल करें दही

फंगल इंफेक्शन की समस्या दूर करने के लिए अपनी डाइट में दही को शामिल करें। दही को स्मूदी, रायता या फिर फलों या सीड्स के साथ मिक्स करके भी आप खा सकते हैं लेकिन रात में दही खाने से परहेज करें क्योंकि रात को दही खाने से गले में खराश हो सकती हैं।

याद रखें ये बातें

फंगल इंफेक्शन से बचने के लिए सूती कपड़े पहनें।

त्वचा को साफ और सूखा रखें।

पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं।

अगर देसी नुस्खों से आराम ना मिलें तो डाक्टरी संपर्क जरूर करें।