मुहम्मद गुलाब ने की कैबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत से विशेष मीटिंग

    0
    46

    लुधियाना, जनगाथा टाइम्स: (रविंदर)

    राज्य स्तर पर अल्प संख्यक वर्ग (सिख, क्रिश्चियन, मुसलमान, बौद्ध,पारसी व् जैन) और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए चलाई जा रही योजनाएं जोकि वर्तमान में बंद हैं को पुनः सुचारु रूप चलाने और उक्त योजनाओं को लागू कराने के उद्देश्य से मुहम्मद गुलाब (वाईस चेयरमैन बैकवर्ड क्लासेस लैंड डेवेलपमेंट एंड फाइनेंस कॉर्पोरेशन पंजाब) ने कैबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत से विशेष से मुलाक़ात कर इस विषय पर वार्तालाप किया। जारी प्रेस नोट बारे जानकारी देते हुए मुहम्मद गुलाब ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा अल्प संख्यक वर्गों के लोगों को लघु उद्योगों के कर्जा देकर उनकी आर्थिक रूप से सहायता की जाती थी। उन्होंने कैबिनेट मंत्री को ज्ञात कराया कि बैकफिंको की स्थापना 1976 में राज्य की पिछड़ी श्रेणियों और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों का आर्थिक मियार ऊंचा उठाने के लिए की गई थी और भारत सरकार की तरफ से राष्ट्रीय पिछड़ी श्रेणियों वित्तीय और विकास कार्पोरेशन (एन.बी.सी.ऍफ़.डी.सी.) और राष्ट्रीय कम संख्या वित्तीय और विकास कॉर्पोरेशन (एन.एम.डी.ऍफ़.सी) की स्थापना करने के उपरांत बैकफिंको को पंजाब सरकार की तरफ से इन दोनों राष्ट्रीय कॉर्पोरेशन की रोजगार योजनाओं को लागू करने के लिए नोडल एजेंसी बनाया गया हैं और योजनाओं के अनुसार केवल 6 प्रतिशत वार्षिक व्याज डॉ पर टारगेट ग्रुप को कर्जे मुहैया करवाए जाते हैं और बैकफिंको इसी व्याज दर पर आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को कर्जे मुहैया करवा रही हैं।उन्होंने बताया कि टारगेट ग्रुप के लिए आयु सीमा 18 साल से 55 साल तक हैं और वार्षिक आय ग्राम इलाकों और शहरी इलाकों के लिए 300000 से कम होनी चाहिए व् 50 प्रतिशत कर्जे पिछड़ी श्रेणी के उन आवेदकों को दुए जायेंगे जिनकी सालाना आय 150000 रूपये होगी। उन्होंने बताया कि निगम की तरफ से पिछड़ी श्रेणियों के लिए एजुकेशन लोन योजना अनुसार कर्जे दिए जाते हैं जोकि 4 प्रतिशत वार्षिक व्याज दर के हिसाब से दिया जाता हैं जबकि लड़कियों के लिए यही व्याज दर 3.5 प्रतिशत निर्धारित हैं और कर्जे की वापसी कोर्स खत्म होने के 6 महीने बाद बाद मासिक किश्तों में 5 साल के अंतराल में ली जाती हैं और विदेशों में पढ़ाई के लिए 20 लाख रूपये का कर्जा मुहैया किया जाता हैं। मुहम्मद गुलाब ने कहा कि 2017 से राष्ट्रीय कॉर्पोरेशन (एन.एम.डी.ऍफ़.सी)नई दिल्ली की देनदारी ज्यादा होने की वजह से उनकी तरफ से अल्प संख्यक वर्ग (सिख, क्रिश्चियन, मुसलमान, बौद्ध, पारसी व् जैन) को सस्ते व्याज दर पर टर्म लोन देना बंद कर दिया हैं जिस कारण इन सभी वर्गों के जरूरतमंद लोग आज आज इन योजनाओं का लाभ लेने से वंचित हो गए हैं।

    मुहम्मद गुलाब ने कैबिनेट मंत्री से आग्रह किया हैं कि उक्त सभी वर्ग समाज का अभिन्न अंग हैं और उनके अच्छे भविष्य के लिए सरकार को इस विषय पर गंभीरता से सोचना चाहिए क्योंकि इनमें वो नोजवान भी शामिल हैं जिनका लोन की कमी के चलते सुनहरी भविष्य आज संकट में हैं। माननीय कैबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत ने मुहम्मद गुलाब को विश्वास दिलाते हुए कहा कि अल्प संख्यक वर्ग व् आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए लोन सुविधा की योजनाओं को पुनः लागू कराने के लिए उच्च अधिकारीयों से मीटिंग कर रणनीति बनाई जाएगी उन्होंने बैकफिंको में स्टाफ की कमी व् अन्य मुश्किलों को पहल के आधार पर हल करवाने का भरोसा दिया। मुहम्मद गुलाब ने कहा कि उनका उद्देश्य है कमजोर वर्ग को सरकार की हर सुविधा का लाभ मिले और उनका भविष्य उज्ज्वल हो सकें।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here