होशियारपुर की पंचायतों की पहलकदमी के चलते अब तक जिले के 20 गांव हो चुके हैं ड्रग फ्री-डीसी

    0
    152

    होशियारपुर ( जनगाथा टाइम्स ): पंजाब सरकार की ओर से नशे के खिलाफ शुरु किए गए अभियान को और सार्थक बनाने के लिए जिला होशियारपुर की पंचायते आगे आई हैं व पंचायतों की पहलकदमी व दूरदर्शी सोच के चलते जिला प्रशासन की ओर से दूसरे चरण में 11 और गांवों को ‘ड्रग फ्री’ घोषित कर दिया गया है। डिप्टी कमिश्नर श्रीमती ईशा कालिया ने आज जिला प्रशासनिक कांप्लेक्स में दसूहा सब -डिविजन के 6 गांवों उडरा, मक्कोवाल चढ़दी पत्ती, चंडीदास, चक्क नूर अली, खंगवाड़ी, भंबोवाल के अलावा होशियारपुर सब -डिविजन के 5 गांव नारा, ठरोली, सज्जन, अखलासपुर, ब्रह्मजीत को ‘ड्रग फ्री’ गांवों के सर्टिफिकेट सौंपे। इस मौके एस.एस.पी. श्री गौरव गर्ग भी मौजूद थे।
    डिप्टी कमिश्नर ने पंचायतों की प्रशंसा करते हुए कहा कि पंचायतों व गांव वासियों की ओर से अपने गांवों को ‘ड्रग फ्री ’ बनाने का उठाया बीढ़ा एक तंदुरुस्त समाज की सृजना के लिए सहायक साबित होगा। उन्होंने कहा कि ‘ड्रग फ्री ’ गांव बाकी गांवों को जागरू क करने व जिले के अन्य गांव ‘ड्रग फ्री गांवों ’ को रोल माडल बना कर अपने गांवों को नशा मुक्त बनाने के लिए आगे आएं। उन्होंने कहा कि दसूहा के 6 गांवों व होशियारपुर के 5 गांवों सहित 11 गांवों को ड्रग फ्री घोषित करने के साथ अब तक जिले के 20 गांव ड्रग फ्री हो चुके हैं, जो जिले के लिए बड़े गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि इससे पहले मुकेरियां सब -डिविजन के एक गांव बहबल मंज व गढ़शंकर सब -डिविजन के अंतर्गत आते 8 गांवों रावल पिंडी, कंबाला, फतेहपुर कलां, डेरों, नाजरपुर, मुकंदपुर, कुलेवाल, मोजीपुर सहित 9 गांवों को ‘ड्रग फ्री’ गांव घोषित कर पहले दौर की शुरुआत की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि बाकी गांवों को भी पंचायतों की पहलकदमी के चलते ‘ड्रग फ्री’ घोषित करने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने ड्रग फ्री गांवों से अपील करते हुए कहा कि वे बाकी गांवों को जागरु क करें, ताकि जिले के बाकी गांवों को भी स्वस्थ बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि गांवों को ‘ड्रग फ्री’ बनाने के लिए पंचायतों की भूमिका काफी अहम होती है, इस लिए पंचायतों को अग्रणी भूमिका निभाने की जरु रत है। उन्होंने कहा कि गांव, शहर व जिले को ड्रग फ्री बनाने के लिए एकजुटता से संयुक्त प्रयास करने की जरु रत है।
    श्रीमती ईशा कालिया ने कहा कि ड्रग फ्री गांवों को 26 जनवरी को सम्मानित भी किया जाएगा। इसके अलावा इन गांवों में पहल के आधार पर अलग -अलग योजनाओं के अंतर्गत दीं जा सुविधाएं मुहैया करवाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि गांवों को ‘ड्रग फ्री’ घोषित करने के लिए कड़े मापदंड अपनाने के बाद ही ड्रग फ्री घोषित किया गया है। उन्होंने कहा कि गांवों के कलस्स्टर कोआर्डिनेटरोंं, नशा रोकू निगरान कमेटियों, मास्टर ट्रेनरज, डैपो व जी.ओ.जी. की ओर से भेजे गए प्रस्तावों पर फिड बैक लेने के लिए सब -डिविजनल मिशन टीम की ओर से गांवों में आम इजलास किया गया, जिस दौरान गांव वासियों से गांवों को ड्रग फ्री घोषित करने के लिए सुझाव व एतराज मांगे गए। गांव वासियों की ओर से कोई एतराज पेश न करते हुए गांवों को ‘ड्रग फ्री ’ बनाने की सहमति दी गई। उन्होंने कहा कि गांवों के कलस्टर कोआर्डिनेटरों, जी.ओ.जी सदस्यों व नशा रोकू निगरान कमेटियों की ओर से भी इस संबंधी घोषणा पत्र (डैकलारेशन) प्राप्त किए गए, जिनकी फिर पड़ताल करने के बाद जिला मिशन टीम की सहमति पर गांवों को ‘ड्रग फ्री ’ घोषित किया गया।
    डिप्टी कमिशनर ने कहा कि नशों की रोकथाम संबंधी सूचना देने के लिए एस.टी.एफ /नारकोटिक्स सैल होशियारपुर के डी.एस.पी. (94637 -68905) के अलावा हैल्पलाइन नंबर -181 पर संपर्क किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सूचना देने वाले का नाम व पता बिल्कुल गुप्त रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि नशे का कारोबार करने वाले किसी भी व्यक्ति को बक्शा नहीं जाएगा। उन्होंने स्पैशल टास्क फोर्स (एस.टी.एफ) को हिदायत की कि ड्रग फ्री किए गए गांवों की 15 दिनों बाद चैकिंग करनी भी यकीनी बनाई जाए। उन्होंने जी.ओ.जी को भी इन गांवों की निगरानी करने के लिए कहा।
    इस मौके पर अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (सामान्य) श्री हरप्रीत सिंह सूदन, एस.डी.एम दसूहा श्रीमती ज्योति बाला,एस.डी.एम. होशियारपुर श्री अमित सरीन, सहायक कमिश्नर (सामान्य) श्री अमित महाजन, जिला प्रमुख जी.ओ.जी ब्रिगेडियर (रिटा.) मनोहर सिंह के अलावा जी.ओ.जीज अलग -अलग विभागों के अधिकारी व 11 गांवों की पंचायतें भी उपस्थित थी।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here