हिंदू संगठनों ने परशुराम सेना के नेतृत्व में आर्टिकल 15 का पोस्टर और सेंसर बोर्ड का पुतलां फूंक किया प्रदर्शन

    0
    154

    होशियारपुर (रमनदीप )  श्री भगवान परशुराम सेना के नेतृत्व में हिंदू संगठनों ने सोमवार को ग्रीन व्यू पार्क से रोष मार्च निकाला और श्री भगवान परशुराम चौक पर आर्टिकल 15 फिल्म के कलाकारों का पोस्टर व सैंसर बोर्ड का पुतलां फूंक प्रदर्शन किया।
    रोष प्रदर्शन में श्री भगवान परशुराम सेना के जिलाध्यक्ष आशुतोष शर्मा, आल इंडिया शिरोमणि मंदिर प्रबंधक कमेटी के प्रधान शाखा बग्गा, शिव सेना बाल ठाकरे से रंजीत राणा, शशि डोगरा, शिव सेना हिंदुस्तान से राजिंदर राणा, ब्राह्मण सभा प्रगति के अध्यक्ष एडवोकेट सुनील पराशर, युवा परिवार से पवन कुमार, हिंदू संघ से हरीश डोगरा, ब्राह्मण सभा शाम चौरासी से प्रिंस पंडित, मुनीष, रघुबीर सिंह बेदी, अश्वनी शर्मा, विश्वामित्र पांडे, राजिंदर मोद गिल के अलावा अन्य हिंदू संगठनों के पदाधिकारी मौजूद थे।
    ग्रीन व्यू पार्क से सभी हिंदू संगठनों के पदाधिकारी इक_े हुए और सभी ने परशुराम चौक फिल्म के अभिनेता आयुष्मान खुराना मुर्दाबाद, डायरेक्टर अनुभव सिन्हा, प्रोड्यूसर गौरव सोंलकी व स्क्रिप्ट कंसरलेंट मोहम्मद  जी शान के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी की। इस दौरान सभी ने सैंसर बोर्ड के खिलाफ भी जमकर भड़ास निकाली और सैंसर बोर्ड के खिलाफ भी नारेबाजी की। इस दौरान आशुतोष शर्मा ने कहा आर्टिकल 15 हिंदू समाज को बांटने वाली फिल्म है तथा इसमें ब्राह्मणों को बदनाम करने की राजिश की गई जिसे किसी कीमत पर बर्दाशत नहीं किया जाएगा।
    शिव सेना हिंदुस्तान के राजिंदर राणा, प्रिंस पंडित ने कहा फिल्म में भगवा झंडे की छवि को भी खराब करने के प्रयास के साथ साथ भी हिंदू संगठनों की छवि पर भी प्रहार किया गया है। जिससे हिंदू पूरे देश में ब्राह्मण समाज द्वारा किसी लडक़ी का रेप कर उसका शव पेड़ से नहीं लटकाया गया और अभिनेता द्वारा इसे सच्ची घटना पर आधारित कहना हिंदू समाज के साथ धक्का करना है जिसे किसी भी हालत में नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा आयुष्मान खुराना ने ब्राह्मणों को बलात्कारी एव अत्याचार साबित करने की कोशिश की। फिल्म के माध्यम से हिंदू समाज को तोडऩे की कोशिश की गई जिसके पीछे विदेशी ताकतों का हाथ है।
    शिव सेना बाल ठाकरे के रंजीत राणा, ब्राह्मण सभा प्रगति के एडवोकेट सुनील पराशर, शाखा बग्गा ने कहा फिल्म के स्क्रिप्ट कंसरलेंट मोहम्मद जी शान ने इस फिल्म में ब्राह्मणों व हिंदू समाज की छवि को खराब करने की कोशिश की है। उन्होंने बताया आर्टिकल 15 फिल्म बदायुं कांड पर आधारित है जो 27 मई 2014 को उत्तर प्रदेश में हुआ था और मासूम लड़कियों का रेप व मर्डर हुआ था। रेप करने वाला पप्पू यादव ओबीसी से संबंधित था जिसे फिल्म में तोड़ मरोड़ कर पेश करने की कोशिश की गई है।
    हिंदू संगठनों के नेताओं ने कहा अगर ये फिल्म सिनेमाघरों में लगी और उसके बाद हिंसक घटना के जिम्मेंवार सिनेमाघर मालिक होंगे क्योंकि फिल्म के प्रति लोगों में बहुत आक्रोश है।
    आशुतोष शर्मा ने कहा इस संबंध में सैंसर बोर्ड को लिखित शिकायत व नोटिस भेजा गया हैं तांकि फिल्म को रिलीज न किया जा सके। उन्होंने कहा अगली रणनीति बना सैंसर बोर्ड के अधिकारियों के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया जाएगा।
    इस अवसर पर विपुल पंडित सिटी प्रधान, राजीव शर्मा मुख्य सलाहकार, रोहित रावल, अजय शर्मा, चंद्र मोहन शर्मा, दीपक पराशर, शाम पंडित, प्रिंस विग, राजीव शर्मा, रिंकू बांसल, ऊमा शंकर, दीपक शर्मा, सतीश कुमार, एसएम सिद्धू, हरीश भल्ला, केसी शर्मा के अलावा अन्य पदाधिकारी व सदस्य मौजूद थे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here