शिक्षण संस्थानों में भगवान परशुराम जी के इतिहास की दी जाए जानकारी: आशुतोष

    0
    140
    होशियारपुर (शाम शर्मा ): श्री भगवान परशुराम सेना एवं हिंदू संघ के पदाधिकारियों का एक शिष्टमंडल जिलाध्यक्ष आशुतोष शर्मा की अध्यक्षता में डीसी ईशा कालिया के लोकसभा चुनावों की व्यस्त होने के कारण उनके जीए से मिला। इस दौरान उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को पीएम व सीएम के नाम मांग पत्र सौंपे जिसमें उन्होंने भगवान श्री परशुराम जी के जन्मोत्सव सरकारी अवकाश करने की मांग की।
    उन्होंने मांग की कि श्री भगवान परशुराम जन्मोत्सव पर 7 मई 2019 को सरकारी अवकाश घोषित करवाने एवं सरकारी लाईब्रेरी सहित सरकारी व प्राईवेट स्कूलों में भगवान श्री परशुराम जी के इतिहास को लागू करवाया जाए। उन्होंने कहा वो समस्त ब्राह्मणों व सनातन समाज की तरफ से श्री भगवान परशुराम जी के जन्मोत्सव पर अवकाश घोषित कर लोगों को एक तोहफा दें।
    मुख्य सलाहकार केसी शर्मा व सचिव रोहित रावल ने  मांग की कि श्री परशुराम जी की जीवनी को सरकारी एवं गैर सरकार शिक्षण संस्थानों मे लागू किया जाए, भगवान परशुराम जी की पूर्ण जीवन प्रेरणाओं से भरपूर है। उनकी गाथा जहां शास्त्रों के माध्यम से देश के प्रति समर्पण की भावना पैदा करती है वहीं शस्त्रों का ज्ञान अत्मिक एंव देश की रक्षा करने के लिए प्रेरित करती है।
    योगेश चौबे ने कहा ब्राह्मण समाज को राज्य सरकार द्वारा पिछले दस सालों से जारी भगवान परशुराम जी के जन्मोत्सव पर गजटिड छुट्टी बंद करने पर रोष है और उन्होंने पूरे पंजाब के ब्राह्मणों को एकजुट होकर दोबारा से छुट्टी बहाल करने की मांग को दोहराया। उन्होंने कहा अगर छुट्टी बहाल न की गई तो पंजाब के 28 प्रतिशत ब्राह्मण आगामी चुनावों में राज्यों सरकार को करारा जबाव देंगे। उन्होंने केंद्र सरकार से भी अपील की कि वो श्री भगवान परशुराम जन्मोत्सव पर अवकाश घोषित करें। उन्होंने डीसी होशियारपुर से भी मांग की कि वो चुनावों के कारण चुनाव आचार सहिंता लागू होने के कारण अपनी शक्तियों का प्रयोग कर 7 मई अवकाश करने के निर्देश दें।
    इस अवसर पर उनके साथ श्री ब्राह्मण सभा प्रगति के एडवोकेट सुनील पराशर , राजीव शर्मा, मनोज शर्मा, वरुण पंडित, राजीव शर्मा, योगेश चौबे, अजय शर्मा, वीर शर्मा, पंकज बेदी, पवन शर्मा, अश्वनी शर्मा, विजय अरोड़ा, विश्वामित्र पाण्डे, अक्षय पराशर, अजय ऐरी, राजेश नागी, हरीश डोगरा अध्यक्ष शेरपुरबातियां भी मौजूद थे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here