माल वाहक वाहनों पर माता चिंतपूर्णी दर्शनों के लिए न जाएं श्रद्धालु: डिप्टी कमिश्नर

    0
    170

    होशियारपुर (रुपिंदर ) 1 अगस्त से शुरु होने वाले माता चिंतपूर्णी के मेले के प्रबंधों को लेकर जहां होशियारपुर जिला प्रशासन की ओर से युद्ध स्तर पर तैयारी की जा रही है वहीं ऊना(हिमाचल प्रदेश) जिला प्रशासन ने भी अप्रत्याशित घटना से निपटने को लेकर तैयारी शुरु कर दी है। डिप्टी कमिश्नर श्रीमती ईशा कालिया ने माता चिंतपूर्णी जाने वाले यात्रियों से अपील करते हुए कहा कि वे माल वाहक वाहनों पर दर्शनों के लिए न जाएं क्योंकि ऐसा करने पर उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। उन्होंने बताया कि श्रद्धालुओं की सुरक्षा के दृष्टिगत ऊना जिला प्रशासन की ओर से इस बार पंजाब से माता चिंतपूर्णी जाने वाले यात्रियों को ले जाने वाले माल वाहक वाहनों के जिले में प्रवेश पर रोक लगा दी है। उन्होंने कहा कि ऊना प्रशासन की ओर से हिमाचल के एंट्री प्वाइंट पर नाके लगाकर इन वाहनों की चैकिंग की जाएगी और इनके चालान काट कर वापिस भेज दिया जाएगा।
    डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि पंजाब से अक्सर श्रद्धालु माल वाहक वाहनों में यात्रा करते हैं। इन वाहनों को 28 जुलाई से हिमाचल में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी और इनका चालान कर इनको वापिस भेज दिया जाएगा। इस लिए माता चिंतपूर्णाी जाने वाले यात्रियों से अपील है कि वे माल वाहक वाहनों में न जाए। उन्होंने बताया कि माल वाहक वाहनों को रोकने के लिए हिमाचल पुलिस की ओर से गगरेट रोड पर एक्साइज बैरियर के पास एक बैरियर लगा दिया गया है।
    श्रीमती ईशा कालिया ने कहा कि ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारु ढंग से चलाने के लिए 1 अगस्त से 10 अगस्त तक होशियारपुर से माता चिंतपूर्णी को जाने वाला रास्ता वन -वे होगा। श्रद्धालु होशियारपुर से गगरेट -मुबारकपुर से होते हुए माता चिंतपूर्णी जाएंगे, जबकि वापसी माता चिंतपूर्णी से मुबारकपुर -अंब- ऊना से होते हुए होशियारपुर होगी। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष यह रु ट फाइनल किया गया था, जो काफी सफल रहा और इस बार भी संगतों के लिए यही रु ट फाइनल किया गया है। उन्होंने श्रद्धालुओं से अपील करते हुए कहा कि वे प्रशासन द्वारा तय किए गए इसी रूट की पालना करें, ताकि उनको कोई दिक्कत न हो। उन्होंने कहा कि मेले के दौरान डी.जे. के लिए प्रशासन की ओर से कोई मंजूरी नहीं दी जाएगी, बल्कि लंगर कमेटियों की ओर से लाउड स्पीकर लगाने के लिए एस.डी.एम. से मंजूरी लेनी अनिवार्य होगी। उन्होंने कहा कि छोटे हाथी पर भी लाउड स्पीकर चलाने की मंजूरी नहीं दी जाएगी।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here