मानवीय मूल्यों का आत्मनिरीक्षण ही समय की मांग – सद्गुरू माता सुदीक्षा

    0
    169

    होशियारपुर /पटियाला( मनप्रीत मन्ना ) मानवीय मूल्यों में बढ़ौतरी तभी संभव है, जब हम अपने आप का स्वयं समय-समय पर निरीक्षण करते रहें। और यह केवल सत्संग में आकर सद्विचारों को सुनकर उन्हें अपने जीवन में अपनाने से ही संभव है। यह उद्गार निरंकारी सद्गुरू माता सुदीक्षा जी महाराज ने पटियाला स्थित अनाज मंडी में आयोजित मानव एकता सम्मेलन के दौरान पंजाब सहित हरियाणा व हिमाचल के क्षेत्र से आए मानव परिवार को संबोधित करते हुए कहे।
    उन्होंने निरंकारी मिशन के 90वर्ष पूर्ण होने पर कहा कि एकतत्व, भाईचारे से सारे विश्व के लिए भले की कामना करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें प्रत्येक स्थिति में समरूप रहना चाहिए। दुख में अधिक दुखी व सुख में अधिक खुश नहीं होना चाहिए। हर परिस्थिति में सेवा, सत्संग व सिमरन को ही सर्वोपरि रखना है। किसी भी परिस्थिति में नकारात्मक विचारों को अपने पर हावी नहीं होने देना। सकारात्मकता प्राप्त करने का श्रेष्ठतम मार्ग केवल सत्संग, सेवा व सिमरन ही है।
    उन्होंने कहा कि सन्तों महात्माओं के विचारों को सुनकर उनको केवल व्यखायान करने तक ही सीमित नहीं रहना, वो विचार सही मायनों में तभी सार्थक माने जाएंगे जब हमारा जीवन उन शब्दों या विचारों के अनुसार होगा और यह ब्रहमज्ञान प्राप्त करके सत्संग करने के द्वारा ही हो सकता है।
    पटियाला के जोनल इंचार्ज श्री राधे श्याम ने सद्गुरू माता सुदीक्षा जी महाराज के पटियाला में पहली बार आगमन पर उनका अभिनन्दन व धन्यावाद किया। उन्होंने इस अवसर पर दूर-दूर क्षेत्रों से आई साध संगत, जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, नगर निगम, मंडी बोर्ड, जल सप्लाई विभाग, बिजली विभाग, आढ़ती ऐसासिएशन, कैबिनेट मंत्री वन विभाग साधु सिंह धरमसोत, विधायक हरदयाल सिंह कंबोज, मेयर संजीव शर्मा बिट्टु, चेयरमेन पी0आर0टी0सी , पार्षद राजेश मंडोरा, पार्षद सुखविन्द्र सोनू, उपायुक्त कुमार अमित, एस0एस0पी0 पटियाला मंदीप सिंह सिद्वु सहित अन्य सभी गणमान्य व्यक्तियों का समागम को सफल बनाने में दिए योगदान के लिए धन्यावाद किया। उन्होंने मेंबर इंचार्ज, पंजाब श्री एच0एस0चावला व पटियाला की संयोजक बहन गोविंद कौर ओबराय के संपूर्ण सहयोग के लिए धन्यावाद किया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि इतनी गर्मी के बावजूद रहमत की बरसात से श्रद्वालु व पटियाला वासी आज आन्नदित हुए है, उसकी खूशबू से पटियाला आज धन्य हुआ है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here