प्रधानमंत्री मोदी ने खेला दलित समाज को गुमराह करने का नया पैंतरा: संतोष चौधरी

    0
    182

    होशियारपुर (रुपिंदर )। श्री गुरु रविदास जी की जन्म स्थली वाराणसी में गुरु जी के प्रकाश पर्व पर आयोजित समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा मंदिर को बड़ा करने एवं अन्य विकास कार्यों की घोषणा करना मात्र एक चुनावी स्टंट से अधिक कुछ नहीं है, क्योंकि भाजपा के लिए दलित व गरीब समाज हमेशा से वोट बैंक से ज्यादा कुछ नहीं रहा व चुनाव के दिनों में ही इनको दलितों की याद आती है। अब जबकि लोकसभा चुनाव नजदीक हैं तो घोषणाएं की जा रही हैं ताकि दलित वोट बैंक को लुभाया जा सके। वाराणसी प्रधानमंत्री का लोकसभा हल्का भी है, अगर इन्हें दलितों की भावनाओं की इतनी कद्र थी तो इन्होंने जीत के प्रथम वर्ष के भीतर ही यह घोषणाएं क्यों नहीं की व पिछले पांच साल ये कहां रहे? अगर यह घोषणाएं पहले कर दी जाती तो शायद अब तक कार्य पूरे हो गए होते। मगर, हमारे प्रधानमंत्री को जुमले छोडऩे और नए-नए पंतरे खेलने आते हैं और उन्हीं के सहारे उनकी राजनीति टिकी हुई है। प्रधानमंत्री मोदी ने वोट बैंक की राजनीति करते हुए इन घोषणाओं के माध्यम से एक चुनावी स्टंट खेला है। यह बात पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री संतोष चौधरी ने आज यहां जारी एक प्रैस विज्ञप्ति में कही। संतोष चौधरी ने कहा कि अब जबकि चुनाव सिर पर हैं और यह घोषणाएं की गई हैं तो जाहिर सी बात है कि सालों में होने वाला कार्य दिनों में कैसे हो सकता है तथा इसके लिए ग्रांट कब जारी होगी और लगेगी इस बात को आसानी से समझा जा सकता है। यह सब कुछ दलितों को लुभावने के लिए की गई घोषणा से अधिक कुछ नहीं है और न ही कोई कार्य होगा। संतोष चौधरी ने कहा कि वाराणसी में गुरु जी के प्रकाश पर्व पर पिछले पांच सालों में इससे भी बड़े-बड़े समागम होते रहे हैं, क्या तब प्रधानमंत्री को इनकी जानकारी नहीं थी। जानकारी थी, मगर तब चुनाव नजदीक नहीं थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा गरीब जनता को गुमराह करने का नया पैंतरा खेला गया है, क्योंकि प्रधानमंत्री की कथनी और करनी में अंतर है और वे हाथी के दांतों की तरह कार्य करते हैं, खाने के ओर व दिखाने के ओर। मगर प्रधानमंत्री को अब ही याद क्यों आई कि मंदिर का गलियारा बड़ा होना चाहिए, पार्क व कम्युनिटी हाल बनना चाहिए। मगर प्रधानमंत्री मोदी व पूरी भाजपा को समझ लेना चाहिए कि इस बार चुनावों में उनका कोई भी पैंतरा चलने वाला नहीं है। शायद, भाजपा नहीं जानती कि गुरु जी ने सदैव सच का साथ दिया और अपनी भक्ति और सिद्धांतों से समाज को एकसूत्र में बांधने का संदेश दिया है। संतोष चौधरी ने कहा कि चुनावी दिनों में करोड़ों रुपये की घोषणा करना दलित व गरीब समाज को गुमराह करने के समान है पूरा समाज इस बात को भलिभांती समझता है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here