आशुतोष को मिली अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद के पंजाब विस्तार की जिम्मेवारी

    0
    152

    होशियारपुर। दिल्ली में आयोजित अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन में परिषद ने अपने साल भर के कार्यों की समीक्षा की और और आगामी योजना भी बनाई। इस दौरान परिषद के विस्तार का कार्य तेज करने पर आम सहमति बनी जिसके लिए विभिन्न राज्यों में परिषद के प्रसार के लिए रणनीति तय की गई। इसी कड़ी में पंजाब में परिषद के प्रसार के लिए भगवान श्री परशुराम सेना के अध्यक्ष पं. आशुतोष शर्मा को प्रभार सौंपा गया। शर्मा को पंजाब में परिषद के प्रसार, सदस्यता और जमीनी स्तर तक संगठन की इकाईयों के गठन का दायित्व सौंपा गया। परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी जुगल किशोर तिवारी ने कहा कि संगठन का लक्ष्य संपूर्ण समाज को एक कड़ी में पिरो कर संगठित करना है। तिवारी ने सभी सदस्यों को एक-दूसरे से जुड़ने और संगठित होने की सलाह दी।
    ब्राह्मण अधिकारों का मुद्दा उठाते हुए ब्राह्मणों के साथ हो रहे शोषण के खिलाफ आर पार की लड़ाई का उद्घोष करते हुए तिवारी ने कहा कि सरकारें ब्राह्मण की विनय शीलता का दुरुपयोग कर रही है जो अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हम अपने आत्म सम्मान, आत्म रक्षा और संविधान पर पूर्ण आस्था व विश्वास को कायम रखते हुए संवैधानिक अधिकारों के लिए आर पार की लड़ाई लड़ेंगे। सरकारे और उन्मादी तत्व हमारे धैर्य की और परीक्षा न लें क्‍यों कि ब्राह्मण राष्ट की एकता व अखंडता के लिए मुख्य भूमिका में रहा है और आज भी है। देश के विभिन्न राज्यों से प्रांतीय अध्यक्ष भारी संख्या बल के साथ शामिल हुए और एक सुर से ब्राह्मण एकता को राष्ट्रहित में अनिवार्य बताया। ब्राह्मणों के उदासीनता के चलते भारत की अखंडता एकता व सामाजिक समरसता को बड़ा खतरा उतपन्‍न हो गया है। किसी भी राष्ट को प्रतिभा के आधार पर ही विश्व मंच पर
    स्थापित किया जा सकता है और आज जिन क्षेत्रों में आरक्षण नही है वहाँ आज भी ब्राह्मण बहुमत में रह कर वैद्धिक बल से उन क्षेत्रों को आगे ले जा रहे है। भारत के संवैधानिक प्रक्रिया में किसी भी नागरिक को आत्म सम्मान आत्म रक्षा और मौलिक अधिकार दिए गए है फिर आखिर ब्राह्मणों को उनके संविधानिक अधिकारों से क्‍यों वंचित रखा जा रहा है। तिवारी ने ब्राह्मण एकता को गाँव गाँव घर घर तक पहुचाने के लिए भी प्रेरित किया।
    बनारस से आये हुए राष्ट्रीय सचिव पं. आशुतोष चौबे ने व कोषाध्यक्ष पं. श्याम शुक्ला ने बताया कि परिषद की ओर से समाज के आर्थिक रूप से असमर्थ बच्चों को कक्षा 8 से लेकर 12 तक की निशुल्क शिक्षा की व्यवस्था करने पर काम किया जा रहा है और जल्दी ही इसे अमली जामा पहना दिया जाएगा। व्यापार संघ के अध्यक्ष पं. परिवर्तन शुक्ला, कोलकाता से आए राष्ट्रीय सचिव व पश्चिम बंगाल के महासचिव पं. रेनू पाठक ने पुरानी गलतियों को छोड़कर नए सिरे से शुरूआत करते हुए संगठन व समाज की मजबूती के लिए कार्य करने की सलाह दी। झारखंड से महासचिव पंडित बंशीधर पांडे, शिक्षा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष पंडित कृष्ण कुमार द्विवेदी और पुणे से विजेंद्र भारद्वाज ने संयुक्त रूप से कहा कि परिषद जिस प्रकार पूरे देश में अपने समाज के लिए काम कर रही है, वह सराहनीय है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here