किडनैप 3 बच्चों में से 2 के दिल्ली में मिले शव, 1 मासूम बाल सुधार गृह में मिला

0
189

रेवाड़ी: धारूहेड़ा के समीपवर्ती भिवाड़ी राजस्थान क्षेत्र से 3 सगे मासूम भाइयों के अपहरण के बाद 2 भाइयों के शव दिल्ली-महरौली के जंगल से बरामद हुए हैं। उनकी निर्मम हत्या कर शवों को जंगल में फैंक दिया गया था, जबकि एक मासूम सकुशल बाल सुधार गृह में मिला है। जैसे ही बच्चों के शव मिलने की सूचना भिवाड़ी पहुंची तो परिवार में मातम छा गया। पुलिस ने सी.सी.टी.वी. फुटेज के आधार पर 2 अपहरणकर्त्ताओं को काबू किया है। मूलरूप से यू.पी. निवासी ज्ञान सिंह भिवाड़ी की लेबर कॉलोनी में कुछ माह पहले ही आए थे और किराए का मकान लेकर अपनी पत्नी उर्मिला व 6 बच्चों के साथ रह रहे थे।

15 अक्तूबर को पति-पत्नी घर से बाहर गए थे। जब वे लौटे तो 3 मासूम बच्चे अमन (10), विपिन (12) व शिवा (8) गायब था। इसकी सूचना भिवाड़ी के आई.टी. एरिया फेज-3 थाने को दी गई थी और बच्चों की तलाश करने की गुहार लगाई गई।
परिजनों ने एस.पी. कार्यालय समक्ष दिया था धरना जब बच्चों का कोई सुराग नहीं मिला तो माता-पिता भिवाड़ी एस.पी. कार्यालय के समक्ष धरना देकर बैठ गए थे। माता-पिता ने बच्चों को किडनैप करने का आरोप लगाते हुए मकान मालिक व उसके दोस्त पर संदेह जताया था।

तत्पश्चात पुलिस हरकत में आई और संदिग्धों को हिरासत में लेकर जब उनसे कड़ी पूछताछ की तो उन्होंने बच्चों की हत्या करने की बात कबूली। पुलिस टीम उनकी निशानदेही पर दिल्ली के महरौली पहुंची और वहां सर्च अभियान चलाया, जहां मंगलवार को 2 बच्चों के शव मिले, जिनकी निर्मम हत्या की गई थी। भिवाड़ी से दिल्ली पहुंचे माता-पिता ने बच्चों की पहचान की।

मकान मालिक से हुई थी कहा-सुनी
बच्चों के चाचा राधा-कृष्ण ने कहा कि निकटवर्ती रामवीर कॉलोनी में रहने वाले मकान मालिक के दोस्त विनोद पर बच्चों के अपहरण का शक था। जिस दिन से बच्चे गायब हुए, उसी दिन से विनोद भी कॉलोनी से गायब था।
पीड़ित परिवार ने विनोद पर कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने कहा कि ज्ञान सिंह की मकान मालिक से कहा-सुनी हुई थी। मालिक ने धमकी देते हुए मकान खाली करने के लिए कहा था। तभी से उन पर शक हो रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here