इंडस्ट्री व व्यापारियों को केंद्र जारी करे आर्थिक पैकेज: राजेश जसवाल

    0
    9

    होशियारपुर, जनगाथा टाइम्स : (सिमरन)

    होशियारपुर : देश के प्रधानमंत्री नरिंदर मोदी की तरफ से गत दिवस जारी किए गए 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज के साथ राज्य की घरेलू इंडस्ट्री को कोई राहत मिलती दिखाई नहीं दे रही तथा समूह इंडस्ट्री मालिकों व व्यापारियों को निराशा मिली है। घरेलू इंडस्ट्री तथा व्यापारी इस चिंता में हैं कि कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाऊन का आर्थिक बोझ उन्हें ही झेलना पड़ रहा है। केंद्र सरकार का यह आर्थिक पैकेज लॉलीपोप के सिवाये कुछ नहीं है। यह शब्द आम आदमी पार्टी के ट्रेड ट्रांसपोर्ट से इंस्पैक्टरी विंग के जिला प्रधान राजेश जसवाल ने आज यहां जारी एक प्रैस विज्ञप्ति में कहे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को चाहिए था कि मंदी की मार झेलने के बाद अब लाकडाऊन की मार सह रहे व्यापारियों, ट्रांसपोर्टरों, इंडस्ट्री मालिकों तथा छोटे दुकानदारों को विशेष आर्थिक पैकेज जारी करने के साथ-साथ टैक्स व अन्य खर्चों में राहत देती।

    जसवाल ने कहा कि राज्य में उद्योग पहले ही वित्तिय बोझ के नीचे हैं तथा लेबर की कमी के कारण उन्हें अब दोगुणा मार झेलनी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि इंडस्ट्री, व्यापारी तथा मजदूरों का आपसी रिश्ता होता है। परंतु पिछले समय से इंडस्ट्री के लिए हालात प्रतिकूल रहे तथा कोरोना महामारी के कारण पूरे देश में 2 माह से बंद पड़ी इंडस्ट्री से व्यापार के हर क्षेत्र को नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने एग्रीकल्चर इंडस्ट्री के लिए कोई खास घोषणा नहीं की, जिससे इंडस्ट्री व व्यापारियों को कोई लाभ नहीं हुआ। एक तरफ प्रधानमंत्री घरेलू उत्पादों पर जोर दे रहे हैं तो दूसरी तरफ कोई ठोस नीति न होने के कारण इंडस्ट्री आगे कैसे बढ़ेगी के सवाल पर उनके पास कोई जवाब नहीं है। बिना फाइनांस के इंडस्ट्री कैसे चलेगी इस बारे में भी उन्हें सोचना चाहिए। मार्किट पैकेज पर बोलते हुए जसवाल ने कहा कि केंद्र की योजनाएं न तो किसानों को कर्ज मुक् कर सकती हैं और न ही इंडस्ट्री को नया जीवन प्रदान कर सकेंगी।

    उन्होंने कहा कि बिना शॉरिटी लोन योजना की बात है उससे पुरानी इंडस्ट्री को ही लाभ मिलेगा तथा जितना लोग इंडस्ट्री ने लिया होगा उसका 20 प्रतिशत लोन ही बैंक देंगा। 20 प्रतिशत के साथ कारोबार को कैसे बढ़ाया जा सकता है। लेबर के मुद्दे पर बोलते हुए जसवाल ने कहा कि जिस प्रकार लेबर अपने राज्योो को वापस जा रही है उससे आने वाले समय में पंजाब में लेबर की कमी हो जाएगी। जसवाल ने केंद्र सरकार सके अपील की कि इंडस्ट्री, व्यापारी, दुकानदार, किसान तथा अन्य वर्गों के लिए आर्थिक पैकेज की घोषणा करे न कि किसी तरह की लोन योजना का लोन योजना से लोग और कर्जदार हो जाएंगे। जिससे विकास नहीं विनाश होगा।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here