SAARC सम्मेलन से लौटे राजनाथ सिंह ने कहा, ‘भगवान पाकिस्तान को सद्बुद्धि दे’

    0
    5

    नई दिल्ली। गृह मंत्री राजनाथ सिंह अपने पाकिस्तान दौरे से वापस लौट आए हैं। दौरे से लौटने के बाद आज संसद में सार्क सम्मेलन के दौरान हुए घटनाक्रम की राजनाथ ने विस्तार से जानकारी दी। भारत की तरफ से मैंने आतंकवाद की खिलाफत की। सार्क सदस्‍यों से मैंने इस बुराई को जड़ से उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।

    राजनाथ सिंह को मिला सभी दलों के नेताओं का समर्थन

    उन्होंने आगे कहा, ‘मैंने सार्क सम्मेलन में कहा कि आतंकी शहीद नहीं हो सकता। आतंक को बढ़ावा देने वालों पर कार्रवाई हो।’ उन्होंने कहा कि लगभग सभी देशों ने आतंकवाद की घोर निंदा की।

    राजनाथ सिंह के बयान के बाद कई दलों के नेताओं ने उनका समर्थन किया जिस पर उन्होंने कहा कि मैं सभी दलों और इस सदन के प्रति आभार व्यक्त करता हूं। मेरे भाषण का प्रसारण हुआ या नहीं यह कहना कठिन है, लेकिन भारत की मीडिया को अंदर नहीं जाने दिया गया। उन्होंने यह भी कहा कि हमारे सभी प्रधानमंत्रियों ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ी है।

    मुझे पाकिस्तान से कोई शिकायत नहीं है

    उन्होंने बताया कि पाक के गृहमंत्री ने लंच पर बुलाया और खुद चले गए। मुझे इसकी नाराजगी नहीं, मैं वहां भोजन करने नहीं गया था।  और जहां तक विरोध-प्रदर्शनों की बात है तो मुझे इसकी चिंता होती तो मैं वहां जाता ही नहीं। राजनाथ सिंह ने कल इस्लामाबाद में सार्क देशों के गृह मंत्री की बैठक में आतंक को बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तान को जमकर सुनाया तो पाकिस्तान ने बदले में राजनाथ सिंह के साथ बेरुखी के साथ पेश आया। भारत से बैर निकालने की होड़ में पाकिस्तान इतना नीचे गिर गया कि शिष्टाचार की सीमा लांघी।

    गृहमंत्री ने कहा कि भारत से दूरदर्शन, एएनआई और पीटीआई के रिपोर्टर सार्क सम्मेलन को कवर करने गए थे लेकिन उन्हें सभा के अंदर जाने नहीं दिया गया। इस पूरे मामले पर राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान को जो करना था उसने वो किया और वो इस संबंध में कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं करना चाहते हैं। गृहमंत्री ने कहा कि ‘मुझे पाकिस्तान से कोई शिकवा या शिकायत नहीं है।’

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here