कश्मीर में राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान को दी नसीहत

    0
    8

    श्रीनगर। देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह रविवार को कश्‍मीर के हालात का जायजा लेने गए। कश्‍मीर में काफी दिनों सक स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई हैं। कश्‍मीर में राजनाथ सिंह ने सीएम महबूबा मुफ्ती से मुलाकात भी की।

    कश्‍मीर में राजनाथ सिंह ने जताया दुख

    कश्‍मीर में राजनाथ सिंह ने सभी हालातों का जायजा लिया और दुख जताया। उन्‍होंने आंतकी बुरहान वानी की मौत के बाद जम्मू-कश्मीर के बिगड़े हालातों पर सीएम महबूबा से विचार विमर्श भी किया। उन्होंने वहां मीडिया से भी बात की और कहा कि जम्मू-कश्मीर पर सरकार की नजर है और पीएम मौजूदा हालात से दुखी हैं।

    पाकिस्‍तान का रवैया ठीक नहीं

    कश्मीर के विस्फोटक हालात के लिए पाकिस्तान की हरकतों का जिक्र करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि कश्मीर के संबंधों को लेकर पाकिस्तान का रवैया पाक नहीं है। पाकिस्तान को अपने व्यवहार बदलने की जरूरत है। गृह मंत्री ने पाकिस्तान को नसीहत के साथ-साथ चेतावनी भरे लहजे में कहा कि पाकिस्तान खुद ही आतंकवाद का भुक्तभोगी है और उसे कश्मीर में हिंसा को बढ़ावा नहीं देना चाहिए।

    हर तरह से करेंगे मदद

    कश्मीरी अवाम के जख्मों पर मरहम लगाते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि मैंने सूबे की सीएम से कहा कि अगर जख्मियों को इलाज के लिए दिल्ली भेजना जरूरी है तो सरकार एम्स में इलाज मुहैया कराने को तैयार है। हिंसा के बीच खौफ और गुस्से को कम करने, जनता की नाराजगी दूर कर उन्हें करीब लाने की कोशिशों के मद्देनज़र गृह मंत्री ने कहा कि मैं साफ कर देना चाहता हूं कि सरकार कश्मीर से जरूरत के रिश्ते नहीं, बल्कि जज़्बाती तौर पर जुड़ना चाहती है।

    कमेटी देगी दो महीने में रिपोर्ट

    इसके साथ ही राजनाथ ने कहा कि कम नुकसान पहुंचाने वाले हथियारों के इस्‍तेमाल पर एक एक्‍सपर्ट कमेटी बनेगी, जो कमेटी दो महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट देगी। गृह मंत्री ने सुरक्षाबलों को नसीहत दी कि पैलेट गन के इस्तेमाल से बचें।

    Mehbooba-Mufti---PTI_0_0_0

    बातचीत से हल होगी मुसीबत

    इसके साथ राजनाथ सिंह ने ये भी कहा कि अगर किसी की कुछ परेशानियां और मसले हैं तो इसका हल बातचीत से होगा। हालांकि, इसके साथ ही राजनाथ ने ये साफ कर दिया कि कश्मीर से बेहतर रिश्ते के लिए भारत को किसी तीसरी पार्टी की जरूरत नहीं है। उन्होंने ये भी कहा कि भारत हरेक से बात करने को तैयार है जो सूबे में शांति और साज़गार हालात लाने में मददगार हो। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में सूबे की सीएम महबूबा मुफ्ती ने AFSPA कानून और कुछ इलाको से प्रायोग के तौर पर इसके हटाए जाने की जरूरत पर जोर दिया।

    (साभार)

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here