CRPF जवानों पर नक्सलियों ने दागे थे 3 रॉकेट लॉन्चर-तीर बम, सुकमा अटैक पर 10 बड़े खुलासे

    0
    26

    JANGATHA TIMES : सुकमा में दोरनापाल से जंगरगुंडा के बीच 56 किलोमीटर लंबी निर्माणाधीन सड़क में अब तक 128 जवान शहीद हो चुके हैं. हालांकि यहां हर 5 किलोमीटर की दूरी पर सीआरपीएफ का कैंप है. इसके बावजूद अब तक सिर्फ 16 किलोमीटर लंबी सड़क को ही पक्का किया जा सका है. जिस जगह ताजा हमला हुआ वो ओडिशा और आंध्र प्रदेश की सीमा से महज चंद मिनटों की दूरी पर है. इससे नक्सलियों की धरपकड़ का काम और भी कठिन हो जाता है.

    आपको बताते हैं इस हमले से जुड़े 10 बड़े खुलासे:
    -नक्सलियों ने जवानों पर करीब सवा बारह बजे हमला किया. उस वक्त जवान लंच कर रहे थे. ये जगह दोनों तरफ से छोटी-छोटी पहाड़ियों से घिरी है. लिहाजा जवानों के पास हमले के दौरान संभलने की कोई जगह नहीं थी.
    -खबरों के मुताबिक नक्सलियों ने हमले में करीब 50 ग्रामीण महिलाओं और बच्चों को ढाल की तरह इस्तेमाल किया.
    -नक्सलियों ने हमले में आसपास की पहाड़ियों से 3 रॉकेट दागे.
    -करीब 300 नक्सलियों के दल ने हमले में आधुनिक हथियारों के अलावा हैंड ग्रेनेड का भी इस्तेमाल किया.
    -ग्रामीणों को ह्यूमन शील्ड की तरह इस्तेमाल करने की रणनीति के चलते सीआरपीएफ जवान नक्सलियों को भरपूर जवाब नहीं दे पाए.
    -हमलावर नक्सलियों में करीब 50 महिलाएं भी शामिल थीं. हमले के लिए नक्सलियों ने करीब 20-30 समूह बनाए थे. हर ग्रुप में 2-3 महिलाएं शामिल थीं.
    -हमले के बाद नक्सली 25 इंसास राइफलें और 1 रॉकेट लॉन्चर भी लूटकर ले गए.
    -आशंका जाहिर की जा रही है कि इस इलाके में अब तक हुए हमलों की तरह इस बार भी आंध्र प्रदेश की महिला नक्सलियों ने हिस्सा लिया.
    -सीआरपीएफ का दावा है कि जवाबी कार्रवाई में 8-10 नक्सली हलाक हुए हैं.
    -हमले के वक्त आसपास के गांवों के लोगों ने घरों को खाली कर दिया था. बुर्कापाल में करीब 100 परिवार रहते हैं.

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here