इस फिल्म की रिलीज से पहले राजकपूर ने छोड़ दिया था नॉनवेज, शराब को भी नहीं लगाया था हाथ

0
183

होशियारपुर। फ़िल्मी जगत। बॉलीवुड इंडस्ट्री के दिवंगत अभिनेता राज कपूर के कई किस्से आज भी मशहूर हैं। राज कपूर एक ऐसे अभिनेता थे, जिनकी फैन फॉलोइंग भारत ही नहीं रूस और चीन में भी थी। उन्हें शराब पीने का कितना शौक था, ये सभी जानते हैं। उनके शराब के किस्से काफी चर्चित रहे हैं। लेकिन शायद ही किसी को पता होगा की उन्होंने साल 1978 में आई फिल्म ‘सत्यम-शिवम-सुंदरम’ के लिए शराब तक छोड़ दी थी।

कहा जाता है कि फिल्म की रिलीज के वक्त राजकपूर काफी ज्यादा अंधविश्वासी हो गए थे। उन्होंने फिल्म की सफलता के लिए रिलीज से पहले शराब छोड़ दी थी। इतना ही नहीं उन्होंने कई दिनों तक नॉनवेज को भी हाथ नहीं लगाया था। इस फिल्म के निर्देशक और निर्माता दोनों ही राज कपूर थे। इस फिल्म ने जीनत अमान को रातों रात बुलंदियों पर पहुंचा दिया था।

उनके बारे में बताया जाता है कि वो किन्नरों से पूछने के बाद ही अपनी फिल्म का गाना फाइनल किया करते थे। राज कपूर अधिकतर अपनी फिल्मों की शूटिंग आरके स्टूडियो में किया करते थे। जहां उनसे मिलने किन्नर आते थे। उन्हीं की मंजूरी के बाद वो गाना तय किया करते थे।
बता दें कि बॉलीवुड राज कपूर अपने काम को लेकर आज भी याद किए जाते हैं। इसके साथ ही उनके बारे में जो बातें की जाती हैं, उनमें से एक है उनका शराब का शौक। राज कपूर शराब पीने के इतने शौकीन थे कि वह कोई भी आम शराब नहीं पीते थे। इस बात का जिक्र उनके बेटे रणधीर कपूर ने एक शो के दौरान किया था। उन्होंने बताया था कि उनके पिता केवल लंदन से खरीदी हुई जॉनी वॉकर ही पीते थे। उन्हें कोई और ब्रांड की शराब पीना इतना नागवार था, वो पार्टियों में भी अपनी शराब साथ लेकर जाया करते थे।

राजकपूर काफी टैलेंटेड थे, वो एक्टर के साथ-साथ प्रड्यूसर और डायरेक्टर भी थे। वह अपने जमाने के सबसे कम उम्र के युवा डायरेक्टर थे। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत महज 24 साल की उम्र में की थी। उन्होंने अपने अलग अंदाज और फिल्मों से हिंदी सिनेमा में पहचान बनाई थी। राज कपूर को हिंदी सिनेमा का शो मैन भी कहा जाता है।

 

-जालंधर की वर्चुअल रैली के दौरान सीएम चन्नी और सिद्धू एक-दूसरे के गले मिले
– दोनों ने ‘एक’ होने का संदेश देने की कोशिश की।
जालंधर। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ऐलान किया कि पंजाब में कांग्रेस सीएम् चेहरे के साथ चुनाव लड़ेगी। जालंधर में पंजाब फतेह रैली में राहुल ने कहा कि इस बारे में पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं से पूछकर फैसला लिया जाएगा। कांग्रेस ने पिछला चुनाव भी कैप्टन अमरिंदर सिंह को CM चेहरा घोषित कर लड़ा था। हालांकि इस बार सीएम चेहरे पर पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिद्धू और मौजूदा सीएम चरणजीत चन्नी दावा ठोक रहे हैं।

राहुल ने कहा कि अगर पंजाब जानना चाहता है तो कांग्रेस पंजाब में सीएम चेहरे का ऐलान करेगी। इस बारे में वह पार्टी और कार्यकर्ताओं से बात करेंगे। राहुल ने कहा कि नवजोत सिद्धू और सीएम चरणजीत चन्नी ने मुझे कहा कि दोनों में से जो भी लीड करेगा, दूसरा उसकी पूरी मदद करेगा। इससे मुझे बहुत खुशी हुई। कांग्रेस की इस घोषणा को आम आदमी पार्टी की सीएम चेहरे के लिए जनता से की गई रायशुमारी से भी जोड़कर देखा जा रहा है। आप ने भी जनता से पूछकर भगवंत मान को सीएम चेहरा घोषित करने का दावा किया।

पहले सिद्धू बोले- दर्शनीय घोड़ा न बना देना, फैसले लेने की ताकत देना

रैली को संबोधित करते हुए पहले नवजोत सिद्धू ने राहुल गांधी को कहा- पंजाब के लोगों के 3 सवाल हैं। वह पूछ रहे हैं कि इस कीचड़ से हमे कौन निकालेगा?। दूसरा सवाल कि वह कैसे निकालेगा?, उसके पास कौन सा एजेंडा या रोडमैप है?। सिद्धू ने तीसरा सबसे बड़ा सवाल सीएम चेहरे को लेकर पूछा। सिद्धू ने पूछा कि पंजाब जानना चाहता है कि कांग्रेस का सीएम का चेहरा कौन होगा?। अगर इसका जवाब मिला तो पंजाब में 70 सीटों के साथ कांग्रेस की सरकार बनेगी। सिद्धू ने कहा कि उन्हें दर्शनीय घोड़ा न बना देना। मुझे फैसले लेने की ताकत देना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here