AAP से बाहर हुए अमानतुल्लाह, विश्वास बनाए गए राजस्थान के प्रभारी

    0
    8

    JANGATHA TIMES : पिछले कई दिनों से जारी आम आदमी पार्टी का सियासी घमासान आज खत्म हो गया. अरविंद केजरीवाल के घर हुई आम आदमी पार्टी की पीएसी की बैठक में कई अहम निर्णय लिए गए. ओखला से आप विधायक अमानतुल्लाह खान को पार्टी से बाहर कर दिया गया है. जबकि कुमार विश्वास को राजस्थान का प्रभारी नियुक्त किया गया है. बैठक में केजरीवाल के साथ कुमार विश्वास, मनीष सिसौदिया, आतिशी मार्लिन, संजय सिंह, गोपाल राय और आशुतोष शामिल हुए.

    मीटिंग के बाद आप के मीडिया मैनेजर विकास योगी ने ट्वीट कर सभी नेताओं की तस्वीर साझा की. विकास ने अपने ट्वीट में लिखा ‘जय हिंद । After the meeting ‘
    बैठक के बाद कुमार विश्वास ने ट्वीट कर पार्टी में गहराये विवाद को दूर करने का संकेत देते हुये लिखा कि ‘‘यदि अंधकार से लड़ने का कोई संकल्प कर लेता है तो एक अकेला जुगनू भी सब अंधकार हर लेता है। लड़ेंगे जीतेंगे, आभार, भारत माता की जय।’’ बैठक के बाद उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि खान के बयान की जांच के लिये पार्टी नेता पंकज गुप्ता की अध्यक्षता में समिति गठित की गई है। जांच की रिपोर्ट के आधार पर खान के पार्टी में भविष्य का फैसला किया जायेगा. सिसोदिया ने कहा कि विश्वास की जिम्मेदारी में बढ़ोतरी करते हुये उन्हें राजस्थान का प्रभारी बनाया गया है. राजस्थान में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं. सिसोदिया ने विश्वास की नाराजगी अब दूर होने का भरोसा जताते हुये कहा कि नेताओं के बीच भ्रम की स्थिति अब समाप्त हो गयी है. इससे पहले केजरीवाल और सिसोदिया ने कल रात विश्वास से उनके गाजियाबाद स्थित घर पर मुलाकात कर गिले शिकवे मिटाने की निर्णायक पहल की थी.

    सूत्रों के मुताबिक पीएसी की बैठक में विश्वास लगातार पार्टी के संविधान का हवाला देकर ‘‘एक व्यक्ति एक पद’’ के सिद्धांत को लागू करने की मांग पर अडिग थे. इसे लागू करने पर केजरीवाल पर पार्टी संयोजक या मुख्यमंत्री पद में से किसी एक को छोड़ने का दबाव बनाया जा रहा था. समझा जाता है कि विश्वास का साथ दे रहे लगभग दर्जन भर विधायकों ने एक अन्य फार्मूले का सुझाव देते हुये उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को मुख्यमंत्री बनाने की मांग की.

    आम आदमी पार्टी टूट के कगार पर!, कुमार विश्वास छोड़ सकते हैं पार्टी

    – विश्वास की पहली शर्त है कि भ्रष्टाचार पर कोई भी समझौता नहीं होना चाहिए

    – दूसरी शर्त है कि पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ लगातार संवाद हो और उनकी शिकायतें सुनी जाएं

    – तीसरी शर्त में विश्वास ने कहा है कि राष्ट्रवाद से जुड़े मुद्दों पर कोई भी समझौता न हो

    कुमार विश्वास ने केजरीवाल और सिसोदिया पर साधा निशाना

    कहां से शुरू हुआ विवाद

    ओखला से आप विधायक अमानतुल्लाह ख़ान ने कुमार विश्वास को बीजेपी और आरएसएस का एजेंट बताया था. उन पर पार्टी तोड़ने का आरोप लगाया था, जिसके बाद कुमार विश्वास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि अमानतुल्लाह ख़ान मुखौटा हैं पीछे कोई और है. बाद में कुमार विश्वास को मनाने की कोशिश शुरू हुई. अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया उनसे मिले और आज आम आदमी पार्टी की पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी की बैठक में कुमार विश्वास शामिल हुए. उन्होंने कहा कि उन्हें किसी पद का लालच नहीं है.

    इससे पहले मंगलवार को मीडिया से बातचीत में भावुक होते हुए कुमार विश्वास ने कहा था कि 24 घंटे में तय कर लेंगे कि आगे क्या करना है आम आदमी पार्टी में विवाद के मद्देनजर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कल देर रात आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास से मुलाकात की. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया गाजियाबाद में कुमार विश्वास के घर पहुंचे थे. कुछ देर की बातचीत के बात केजरीवाल कुमार विश्वास को अपने घर ले गए. केजरीवाल ने कहा था कि कुमार विश्वास की कुछ नाराज़गियां हैं, लेकिन उन्हें पूरा यकीन है कि कुमार मान जाएंगे. इससे पहले कपिल मिश्रा, संजय सिंह, आशुतोष, अवतार सिंह कुमार विश्वास को मनाने उनके घर पहुंचे थे.

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here