70 साल की उम्र में कैंसर से हारा ‘दयावान’, सबसे हैंडसम विलेन से बने थे हीरो

    0
    8

    JANGATHA TIMES : मशहूर बॉलीवुड एक्टर विनोद खन्ना का निधन हो गया है. गुरुदासपुर से सांसद खन्ना ने मुंबई के रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में गुरुवार सुबह 11 बजकर 20 मिनट पर अंतिम सांस ली. अस्पताल ने जारी एक बयान में बताया कि 70 वर्षीय खन्ना ब्लैडर कैंसर से पीड़ित थे.

    शाम 4.30 पर बाण गंगा शमशान घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा.
    सूत्रों के मुताबिक पिछले कई दिनों से विनोद खन्ना डिहाइड्रेशन की परेशानी से जूझ रहे थे उन्हें घरवालों ने मुंबई स्थित सर एच एन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां उनकी हालत में तेजी से सुधार हो रहा था और उन्हें जल्दी ही डिस्चार्ज करने की बात कही थी।

    विनोद खन्ना अपने वक्त के सबसे हैंडसम अभिनेताओं में शुमार थे। उन्होंने कई ब्लॉकबस्टर फिल्मों में काम किया। उनका जन्म 1946 में पाकिस्तान के पेशावर में हुआ था। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत नकारात्मक किरदारों से की। बाद में वह मुख्यधारा के हीरो बन गए। उन्होंने सुनील दत्त की 1968 में आई फिल्म ‘मन का मीत’ में विलेन का किरदार निभाया। शुरुआत के दिनों में वह सह अभिनेता या विलेन के रोल में ही नजर आए। ये फिल्में थीं, पूरब और पश्चिम, सच्चा झूठा, आन मिलो सजन, मस्ताना, मेरा गांव मेरा देश, ऐलान आदि।

    -फिल्मों में टॉप के हीरोज के रूप में अपनी पहचान बनाने के बाद विनोद खन्ना ने समाज सेवा के लिए वर्ष 1997 में राजनीति में प्रवेश किया और भाजपा में शामिल हुए। 1998 में गुरदासपुर से चुनाव लड़कर लोकसभा के सदस्य बने।
    -बाद में केन्द्रीय मंत्री के रूप में भी उन्होंने काम किया।
    -वे चार बार गुरदासपुर से बीजेपी के सांसद रहे।
    -युवाओं में पॉपुलस विनोद खन्ना ने बीजेपी के लिए कई राज्यों में प्रचार किया।
    -कहा जाता है कि हेमा मालिनी को राजनीति में लाने वाले विनोद खन्ना ही थे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here