Select Page

उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में शिक्षकों ने की आनाकानी तो लगेगा 50,000 फाइन

उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में शिक्षकों ने की आनाकानी तो लगेगा 50,000 फाइन

नई दिल्ली, जनगाथा टाइम्स: (सिमरन)

नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षाएं जारी रहने के साथ ही उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन का कार्य भी शुरू हो चुका है। इसी के साथ मूल्यांकन में कोताही बरतने वाले शिक्षकों पर सख्ती भी शुरू हो गई है। इस बाबत सीबीएसई ने मूल्यांकन कार्य में जटे शिक्षकों और प्रधानचार्यों के लिए एक सर्कुलर भी जारी किया है। इसके तहत केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के 10वीं और 12वीं कक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में शिक्षकों ने आनाकानी की तो उन पर 50,000 रुपये तक का ज़ुर्माना लगाया जाएगा। इसी के साथ गंभीर बीमारी वाले शिक्षकों को मूल्यांकन कार्य में छूट दी जाएगी, लेकिन इसके लिए कुछ शर्तों को पूरा करना होगा।

इसके तहत मूल्यांकन कार्य में शिक्षकों को राहत पाने के लिए बीमारी और ठोस पारिवारिक कारण बताने होंगे। किसी भी बीमार शिक्षकों के मूल्यांकन कार्य से राहत पाने के लिए किसी सरकार अस्पताल से ही मेडिकल सर्टिफिकेट प्रस्तुत करना होगा, जिसका सत्यापन मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा किय गया हो।

इस सर्कुलर के जारी करने का मकसद यह है कि उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में किसी तरह की कोई बाधा नहीं आए और समय पर परीक्षा परिणाम घोषित किया जा सके।

स्कूल प्रधानाचार्य पर भी लगेगा 50,000 का ज़ुर्माना:

इसी के साथ शिक्षकों से ठीक से मूल्यांकन का काम नहीं लेने पर प्रधानाचार्यों पर सीबीएसई 50,000 रुपये का ज़ुर्माना लगाएगा।

बता दें कि बोर्ड परीक्षाएं खत्म होने के साथ ही उत्तर पुस्कतिकाएं जांचने के लिए सीबीएसई देश भर के केंद्रों में भेजता है। उतर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए सीबीएसई तमान स्कूलों से अनुभवीं शिक्षकों की नियुक्तियां करता है l हर शिक्षक को प्रति कॉपी के हिसाब से पैसे भी दिए जाते हैं।

उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के दौरान उसमें लिखा नाम और रोल नंबर भी हटा दिया जाता है और उसके स्थान पर एक गुप्त कोड लिखा जाता है, जिसकी जानकारी सिर्फ बोर्ड से जुड़े स्टाफ को ही होती है। इसके पीछे उत्तर पुस्तिकाओं के मुल्यांकन में पारदर्शिता लाना होता है।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *