Select Page

गुरु रविदास जी के प्रकाशोत्सव पर दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान ने धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया

गुरु रविदास जी के प्रकाशोत्सव पर दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान ने धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया

होशियारपुर (जनगाथा टाइम्स ) दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा श्री गुरु रविदास जी के प्रकाशोत्सव पर स्थानीय आश्रम गौतम नगर होशियारपुर में धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें अपने प्रवचनों में श्री आशुतोष महाराज जी की शिष्या साध्वी सुश्री दीपा भारती जी ने कहा कि जिस समय समाज में जाति पाति का बोल बाला था, समाज ऊंच नीच जातियों में बंटा हुआ था। ऐसे परिप्रेक्षय में गुरु रविदास जी ने समाज में जन्म लिया और अपने ज्ञान के आलोक से सैंकड़ों हजारों लोगों को ईश्वरीय भक्ति से जोड़ा। यहां तक कि अनेकानेक राजा महाराज व रानियां उनकी शिष्य शिष्याएं बनी उन्होंने प्रभु के प्रति जो भरम थे उन्हें मिटाकर बताया कि प्रभु तो सबके हैं और सबके हृदय में निवास करते हैं जहां मैं और तूं है वहां प्रभु नहीं है उनके हृदय की पवित्रता का इससे बड़ा प्रमाण और कया हो सकता है कि गंगा मईया ने पंडि़त जी से आपने हाथ में उनके द्वारा दिया रूपया स्वीकार किया। जिसके माध्यम से मन चंगा तो कठौती में गंगा का संदेश उन्होंने मानव जाति को दिया। साध्वी जी ने अपने विचारों के माध्यम से बताया कि व्यक्ति अपनी जीत से नहीं अपितु कर्म से श्रेष्ठ होता है और उनकी दिव्य वाणी बेगम पुरा सहर को नाओ दुख अंदोह नहीं तिहि ठाओ के माध्यम से उन्होंने हमें और भी गहन संदेश दिया हमें भी बेगमपुर के निवासी बनना है और वो बेगमपुरा कही बाहर नहीं अपितु हमारे शरीर के अंदर ही विद्यमान है जहां न कोई गम, खौफ और न ही किसी प्रकार का कोई घाटा अथवा दुख है और एक पूर्ण संत सतगुरु द्वारा दिव्य दृष्टि को प्राप्त कर ही। इन आलौचिक नजारों का अनुभव किया जा सकता है श्री गुरु रविदास जी महाराज का यही पावन उपदेश है कि जो इस बेगमपुर शहर का निवासी बनेगा वही मेरी मीत है सो हमें चाहिए हम उनके इस स्वप्न को पूरा करे और कार्यक्रम के अंत में साध्वी सुश्री कृष्णप्रीता भारती ने बहुत जन्म बिछुरे थे माधो शब्द का गायन किया।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *