Select Page

किसानों को मंडियों में नहीं आने दी जाएगी कोई समस्या: डिप्टी कमिश्नर

किसानों को मंडियों में नहीं आने दी जाएगी कोई समस्या: डिप्टी कमिश्नर

होशियारपुर (रुपिंदर ) डिप्टी कमिश्नर श्रीमती ईशा कालिया ने आज होशियारपुर दाना मंडी, हरियाना व कंगमाई सहित अलग-अलग मंडियों का दौरा कर जहां खरीद प्रबंधों का जायजा लिया, वहीं खरीद केंद्रों में किए गए प्रबंधों का मुआयना भी किया। इस मौके पर कंट्रोलर खाद्य व आपूर्ति विभाग श्रीमती रजनीश कुमारी, जिला मंडी अधिकारी श्री तेजिंदर सिंह व अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।
डिप्टी कमिश्नर ने खरीद एजेंसियों को हिदायत करते हुए कहा कि धान की खरीद के दौरान ढुलमुल रवैया न अपनाया जाए, बल्कि समय पर खरीद यकीनी बनाई जाए। उन्होंने कहा कि किसानों को मंडियों में किसी तरह की कोई समस्या नहीं आने दी जाएगी व मंडियों में किसानों के धान का एक-एक दाना उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसान किसी भी तरह की मुश्किल आने पर जिला खाद्य व आपूर्ति कंट्रोलर के कार्यालय के कंट्रोल रु म के फोन नंबर 01882-222663 पर शिकायत दर्ज करवा सकते हैं।
श्रीमती ईशा कालिया ने कहा कि इस वर्ष 398224 मीट्रिक टन धान की पैदावार होने की उम्मीद है व जिले में धान की खरीद शुरु  हो गई है। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से धान की खरीद एम.एस.पी. 1835 रु पए प्रति क्विंटल पर की जाएगी। उन्होंने किसानों को अपील करते हुए कहा कि वे धान की फसल को सूखा कर ही मंडी में लेकर आएं, ताकि उनको किसी भी तरह की कोई परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से धान की नमी 17 प्रतिशत निर्धारित की गई है।
डिप्टी कमिश्नर ने मंडियों में किसानों व मजदूरों की सुविधा के लिए किए गए प्रबंधों का जायजा लेते हुए अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि खरीद केंद्रों में बुनियादी सुविधाओं की कमी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि पीने वाले पानी से लेकर सफाई आदि प्रबंध सुचारु  तरीके से किए जाएं। उन्होंने कहा कि किसान धान की पराली को आग न लगाएं, बल्कि पराली का खेत में ही प्रबंधन करने को प्राथमिकता दें। उन्होंने कहा कि पराली व फसलों के अवशेषों के प्रबंधन के लिए खेती मशीनी व उपकरण सब्सिडी पर मुहैया करवाए जा रहे हैं। इसके अलावा जिले में किसान ग्रुपों की ओर से मशीनरी बैंक भी स्थापित किए गए हैं, जहां अलग-अलग कृषि उपकरण उपलब्ध हैं। उन्होंने किसानों को वातावरण की शुद्धता बरकरार रखने व जमीन की उपजाऊ शक्ति बरकरार रखने के लिए किसान पराली व फसलों के अवशेषों को आग न लगाने की पुरजोर अपील की।
श्रीमती ईशा कालिया ने कहा कि जिले में गत दिवस तक 30095 मीट्रिक टन धान की आमद हो चुकी है, जिसमें से अलग-अलग खरीद एजेंसियों की ओर से 28902 मीट्रिक टन धान की खरीद की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि पनग्रेन की ओर से 17119, मार्कफैड की ओर से 3343, पनसप की ओर से 2879, पंजाब स्टेट वेअर हाऊस कार्पोरेशन की ओर से 2906, एफ.सी.आई. की ओर से 2135 व व्यापारियों की ओर से 520 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई है।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *