Select Page

केनेडियन प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के किस कदम ने पंजाब में हाहाकार मचा दिया ? जानिए

केनेडियन प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के किस कदम ने पंजाब में हाहाकार मचा दिया ? जानिए

नेश्नल डेस्कः केनेडियन प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के एक कदम ने पंजाब में हाहाकार मचा दिया है। दरअसल, कनाडा ने अब भारत के स्टूडेंट्स के लिए वीजा पॉलिसी आसान कर दी है। इस नई पॉलिसी के जरिए अब भारतीय छात्रों को आसानी से स्टडी वीजा मिल सकेगा। ट्रूडो के इस कदम के बाद हालत ये है कि पंजाब के टॉप मोस्ट कॉलेजों में अभी तक सीटें खाली है। जालंधर के फेमस Apeejay कालेज में बिना लेट फीस एडमिशन में सिर्फ 2 बचे हैं लेकिन फिर भी सीट्स फूल नहीं हो रही हैं। हालांकि विद्यार्थियों ने कालेज में आवेदन दिया है फिर भी वे कनाडा में किसी यूनिवर्सिटी में अवसर की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

25 प्रतिशत एडमिशन में कमी
पंजाब के अधिकतर विश्वविद्यालयों और कालेजों में एडमिशन बहुत स्लो चल रही है और विद्यार्थियों की संख्या में भी कमी आई है जिससे विश्वविद्यालय और कालेज टेंशन में हैं। पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी में विभिन्न ग्रेजुएट ओर पोस्ट ग्रेजुएट इनजिनयरिंग तथा मैनेजमेंट कोर्सिज में 25 प्रतिशत एडमिशन में कमी आई है जो इन विश्वविद्यालयों और कालेजों में उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि पिछले साल हमोर पास 590 सीटें थी और इस बार हमने पिछले रुझान को देखते हुए सीटों की संख्या बढ़ा दी। मगर ऐसा दिखार्द देता है कि विद्यार्थी 12वीं कक्षा के बाद कनाडा जाने के इच्छुक हैं।

जून में बदली पोलिसी

  • हाल ही में पेश नए प्रोग्राम स्टूडेंट डायरेक्ट स्ट्रीम के तहत प्रोसेसिंग टाइम घटने से 45 दिन में ही स्टूडेंट वीजा मिल सकेगा। इससे पहले इस प्रोसेस में 60 दिन लगते थे।
  • बस शर्त ये है कि स्टूडेंट्स को पहले बताना होगा कि उनके पास पर्याप्त वित्तीय संसाधन और लैंग्वेज स्किल्स हैं।
  • इसके बाद ही वे एसडीएस प्रोग्राम के तहत कनाडा में पढ़ाई करने के लायक बन सकेंगे। पहले दस्तावेज भी ज्यादा लगते थे। लेकिन नई पोलिसी के तहत इसमें भी रिहायत की गई हैं।

 

कनाडा में भारतीय स्टूडेंट्स पर एक नजरः 
साल                    स्टूडेंट्स

201531, 975
2016 52,890
2017 1,24,000
201829,000 (जनवरी से अप्रेल)

कुल कॉलेज  छात्र   17 लाख

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *