100 करोड़ के जमीनी घोटाले में शामिल अकाली नेताओं से त्यागपत्र कब लेंगे बादल-आप

    0
    17

    भ्रष्ट अकाली नेताओं के पदों पर रहते हुए जांच हो सकती है प्रभावित: आप लीडरशीप
    होशियारपुर, : पंजाब के CM Parkash singh Badal के राजनीतिक सलाहकार तीक्षण सूद, अकाली दल व भाजपा की लोकल समूची लीडरशीप को अब होशियारपुर में आयोजित होने वाले संगत दर्शन प्रोग्राम में होशियारपुर में हुए 100 करोड़ से अधिक के जमीन घोटाले संबंधी आम जनता को जवाब देना चाहिए कि इस घोटाले में लिप्त अकाली नेताओं से त्यागपत्र लेकर उन्हें पद मुक्त कब किया जाएगा। उक्त शब्द आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य यामिनी गोमर, राष्ट्रीय परिषद सदस्य एडवोकेट नवीन जैरथ, पार्षद मोहन लाल पहलवान, पूर्व पार्षद खरैती लाल कत्तना, ट्रेड ङ्क्षवग के संदीप सैनी व आप के वरिष्ठ सदस्यों बलङ्क्षवदर कत्तना, आकाश कुमार गोल्डी, हरपाल लाडा, दीपक सिद्धू, पूर्व पार्षद बलविंदर कौर, धनविंदर कुमार, दिनेश सिद्धू, पंकज बंसल, दलजीत कुमार, मंगत राम कालिया, नवप्रीत ङ्क्षसह, दलजीत कुमार, बूटा राम जसवाल, भारद्वाज, तरसेम कालिया व अन्य ने एक बैठक में संयुक्त तौर पर कहे। आप के इन नेताओं का कहना है कि चाहे 100 करोड़ से अधिक जमीन के घोटाले की जांच अभी चल रही है लेकिन इसमें शामिल अकाली दल से जुड़े प्रमुख लोग यदि अपने पदों पर आसीन रहते हैं तो वे इस जांच को प्रभावित कर सकते हैं, ऐसे में या तो स्वयं त्याग पत्र दे दें अन्यथा पंजाब सरकार को उनसे तुरंत त्याग पत्र ले लेना चाहिए। इन नेताओं ने कहा कि यदि घोटाले में इन लोगों से घोटाले किए हुए 100 करोड़ से अधिक मु यमंत्री बादल अभी बसूल कर अपने संगत दर्शन के प्रोग्राम में साधारण जनता में शहर के विकास हेतु बांट दें, तभी इस संगत दर्शन को सार्थक कहा जा सकता है, नहीं तो पूरे पंजाब के साथ साथ होशियारपुर की जनता के मन में भी यह प्रश्न है कि मु यमंत्री बादल संगत दर्शन कार्यक्रम केवल 5 वर्षों में चुनावी वर्ष में ही क्यों करते हैं। उन्होंने कहा कि जनता अब यह जान चुकी है कि संगत दर्शन प्रोग्राम में जो पैसे पंजाब सरकार की तरफ से विकास करवाने हेतु बांटे जाते हैं वह पंजाब सरकार की कई ईमारतों को बैंकों के पास गिरवी रख कर लोन पर लिए गए हैं। जिसका लोन सहित ब्याज आम जनता को ही भरना पड़ता है। आप नेताओं ने कहा कि उनकी पार्टी का मु य उद्देश्य आम जनता को उनके हकों के प्रति जागरूक करना है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here