सरकार के सेवा केंद्र सफल होते दिखाई नहीं दे रहे

    0
    22

    होशियारपुर–दलजीत अजनोहा– पंजाब सरकार का महत्वाकांक्षी प्रौजैकट सेवा केंद्र पंजाब के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में खोल कर जनता को सुविधाए देने का पहले महीने में शहरों में ही फलाफ साबित होता दिख रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में तो अभी तक सेवा कें द्र शुरू ही नहीं किए जा सके। इन सेवा केंद्रो को चलाने के लिए पंजाब सरकार ने एक निजी कंपनी को ठेका दे रखा है। लेकिन कंपनी अभी तक ग्रामीण क्षेत्रों में सितंबर में कैसे शुरू कर पाएगी जो शहरों में शुरू करने के पंद्रह दिन बाद भी सुचारू तरीके से चला नहीं पाई। जिसके चलते सरकार के इस अति- महत्वाकांक्षी प्रौजैकट सेवा केंद्र सफल होता दिखाई नहीं दे रहा है। चुनाव आयोग ने ईशारा कर दिया है कि नवंबर के पहले सप्ताह तक चुनाव अचार संहिता लागू हो सकती है तो ऐसे में सरकार को इन केद्रों का चुनावी फायदा मिलना भी असंभव ही लगता है। जिला होशियारपुर के शहरी क्षेत्रों में सौलह सेवा केंद्रो का उदघाटन बारह अगस्त को किया गया था। लेकिन निजी कंपनी दुारा अभी तक इन सेवा केंद्रो में ना तो पूरा स्टाफ तैनात कर सकी और ना ही उन्हें अच्छी तरह से ट्रेनिग दी गई है। गढ़शंकर में पंद्रह दिन में सिर्फ सौ के करीब एंट्री हुई है तो मात्र छह लोगो को ही उनके दुारा अप्लाई किए अप्लाई किए कागजात मिल पाए है।
    गढ़शंकर व माहिलपुर सेवा केंद्र में भी स्टाफ की घाट है। दोनों सेवा केंद्रों में सैंटर कोआर्डीनेटर भी नहीं है तो सेवा केंद्र का काम कैसे चलेगा। इसका अंदाजा तो असानी से लगाया जा सकता है। सेवा केंद्र गढ़शंकर में तो कोई कोई ही काम करवाने जाता है। काफी संख्यां में काम करवाने पहुंचने वाले लोगो को सेवा केंद्र में मौजूद स्टाफ से पूरी जानकारी ना मिलने के कारण कई बार वापिस जाकर सरकार दुारा तहसील कंप्लैूकस में खोले सेवा केंद्र में काम करवाने के लिए जाने को मजबूर हो जाता है। लिहाजा एसडीएम कार्यालय में नए खुले सेवा केंद्र में कम ही लोग काम के लिए पहुंच रहे है। जबकि तहसील कंप्लैकस में चल रहे सेवा केंद्र में तीन तीन घंटे लोग लाईनों में खड़े होकर काम करवाने को मजबूर है। जिससे सरकार दुारा निजी कंपनी को काम चलाने के लिए सौपें केंद्रो के अधिकारियों की पोल अपने अपने खुल जाती है कि निजी कंपनी दुारा स्थानीय एसडीएम कार्यालय चलाए जा रहे सेवा केंद्र में नामात्र लोग पुहंच रहे है तो दौ सौ मीटर से भी कम दूरी पर सरकार दुारा चलाए जा रहे पुराने सेवा केंद्र में तीन तीन घंटे भीष्ण गर्मी में लाईन में खड़े होकर काम करवाने को तरजीह नहीं देते। सूत्रों की माने तो निजी कंपनी की बैवसाईट सही तरीके से चल पा रही और ना ही स्टाफ पूरी तरह माहिर है। इसके अतिरिकत एक सेवा केंद्र के कर्मचारी को दूसरे केंद्र में बैठा रखा है। जबकि साफटवेयर के कारण वह वहां पर काम नही कर सकता। इसी तरह जो कंपनी ने कर्मचारियों को ट्रेनिग देने के लिए तैनात किए हुए है। वह खुद ही माहिर नहीं है। जिसके चलते शहरों में खुले सेवा केंद्रो की अगर हालत ऐसी है तो ग्रामीण क्षेत्रों में खुलने के बाद तो सेवाओं की हालत और भी बदतर हो जाएगी। मनी लंब ने बताया कि जब वह आज एसडीएम कार्यालय में रैजीडैंस सर्टीफिकेट के लिए कैसे वनेगा तो वहां पर तैनात कर्मचारी मुझे सही तरीके से जरूरी कागजात के बारे में नहीं बता पाए। सेवा केंद्र में लोगो के लिए बैठने के लिए का और पीने का पानी कोई प्रबंध नही है तो टाकन मशीन व एलईडी भी नहीं है।
    निजी कंपनी के जिला मेनैजर सुरजीत सिंह से बात की तो उनहोने वताया कि – सेवा केंद्रो का काम सही चल रहा है। यहां भी सटाफ की कमी है वह मंगलवार तक पूरी कर दी जाएगी। स्टाफ को ट्रेनिड किया गया है लेकिन अभी तक समय लगेगा कि पूरी तरह काम की उन्हें समझ आने में समय लगेगा। दूर दुराज के केंद्रों में तैनात कंपनी ने की है। साजो समान हमारी कंपनी ने उपलब्ध नहीं करवाना है। हमारी कंपनी ने सिर्फ मेन पाबर उपलब्ध करवाना है। सेवा केंद्र गढ़शंकर में पंद्रह दिन मे करीब सौ एंट्री हुई है और अभी तक मात्र छे लोगो को ही सर्टीफिकेट जारी किए गए है।
    फोटो-एक
    पंजाब सरकार दुारा निजी कंपनी को सौपे गए सेवा केंद्र में काम करवाने आने नीचे जमीन पर बैठे लोग।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here