सरकार बनने पर सरकारी शिक्षकों से नहीं करवाए जाएंगे प्रशासनिक काम-एडवोकेट जैरथ

    0
    23
    ‘आप’ की सरकार बनने पर सरकारी शिक्षकों से नहीं करवाए जाएंगे प्रशासनिक काम-एडवोकेट नवीन जैरथ
    सरकारी सीनियर सैकेंडरी स्कूल चौहाल को, विद्यार्थियों की मांग अनुसार किया जाएगा अपग्रेड
    होशियारपुर 18 जुलाई () मानव जागृति सोशल वैलफेयर सोसायटी के प्रधान मोहन लाल चंडीगढिय़ा, वाईस प्रधान सत्तपाल राजू, जनरल सैके्र टरी संजीव कुमार व सदस्य, अजय कुमार, दीपक कुमार, रूप लाल ने आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद के सदस्य एडवोकेट नवीन जैरथ से मुलाकात कर मांग की कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद सरकारी सीनीयर सैकेंडरी स्कूल चौहाल को तुरंत अपग्रेड कर वहां मैडीकल, नॉन मैडीकल व कामर्स के कोर्स भी खोले जाएं। उन्होंने जैरथ को बताया कि वो पिछले कई सालों से इस काम के लिए पंजाब की अकाली भाजपा सरकार के कई मंत्रियों व नेताओं के दर पर ठोकरें खा चुके हैं पर उन्हें कोरे आश्वासन के अलावा और कुछ नहीं मिला। ऐसे में उन्हें केवल ‘आप’ पर ही भरोसा है। इस स्कूल में गांव चौहाल, बरोटी, थत्थलां, शेरपुर, सराय, बसी गुलाम हुसैन, नारी, मंगूवाल, आदमवाल, सलेरन सहित कई गांवों के 700 से अधिक बच्चे पढऩे के लिए आते हैं।
    एडवोकेट जैरथ ने इस शिष्ट मंडल को भरोसा दिलाया कि 2017 में ‘आप’ की सरकार बनने पर इस समस्या का प्राथमिकता के आधार पर हल निकाला जाएगा। उन्होंने कहा कि ‘आप’ सरकार की पहल पंजाब में शिक्षा व स्वास्थय सुधार की होगी। जैरथ ने स्पष्ट करते हुए कहा कि सरकार के गठन के बाद किसी भी सरकारी स्कूल के शिक्षक को किसी भी प्रशासनिक काम जैसे वोट बनाने, जनगणना करने, अन्य प्रकार के सर्वेक्षण करने आदि के काम में किसी भी कीमत पर नहीं लगाया जाएगा। शिक्षक का प्रमुख कार्य विद्यार्थियों को शिक्षा देना है न कि प्रसासनिक काम करना या विद्यार्थियों का भोजन तैयार करना। जैरथ ने कहा कि स्कूल से संबंधित किसी भी प्रशासनिक कार्य को करने के लिए अलग से प्रशासनिक स्टाफ की नियुक्ति की जाएगी। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री मनीष ससोदिया की तारीफ करते हुए जैरथ ने कहा कि दिल्ली के सरकारी शिक्षकों के लिए उन्होंने पहले ही ऐसे आदेश जारी किए हुए हैं जिसके तहत दिल्ली में किसी भी सरकारी शिक्षक को कोई भी प्रशासनिक ड्यूटी नहीं दी जाती। जैरथ ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में बड़े सुधार तभी संभव हैं यदि सरकार, शिक्षक व विद्यार्थी मिल जुल कर शिक्षा के बुनियादी ढांचे में समय के अनुसार जरू री बदलाव लाएं।
    फोटो- मानव जागृति सोशल सोसायटी के पदाधिकारी व सदस्य अपनी मांगों संबंधी ‘आप’ की राष्ट्रीय परिषद के सदस्य एडवोकेट नवीन जैरथ को मांगपत्र सौंपते हुए।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here