सऊदी में बेरोजगार भारतीयों के हालात का जायजा लेंगे वीके सिंह

    0
    7

    अपनी नौकरियों से हाथ धो चुके हजारों भारतीयों के हालात का जायजा लेने के लिए विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह आज रात सऊदी अरब रवाना होंगे। वहां वे स्वदेश वापसी के इच्छुक भारतीयों के लिए औपचारिकताओं को भी अंतिम रूप देंगे। सिंह के दौरे से पहले खाड़ी देशों से जुड़े मामलों को देखने वाले उनके मंत्रिमंडल सहयोगी एमजे अकबर ने सऊदी अरब के राजदूत सउद बिन मोहम्मद अल साती से मुलाकात कर बेरोजगार भारतीयों की स्थिति पर चर्चा की।

    विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर ने इस मसले से जुड़े कई ट्वीट किए। ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘‘भारत में सऊदी के राजदूत डॉ. सउद बिन मोहम्मद अल साती से सभी द्विपक्षीय मुद्दों पर सकारात्मक चर्चा हुई। भारतीय कामगारों से जुड़े मुद्दे समेत सभी मुद्दों को सुलझाने की दिशा में सऊदी सरकार की ओर से आश्वासन और सहयोग मिलने पर मुझे प्रसन्नता है।’’ विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि सिंह बुधवार सुबह जेद्दा पहुंच जाएंगे और शुक्रवार शाम तक लौट आएंगे। खाड़ी में अर्थव्यवस्था के चरमराने से सऊदी अरब में हजारों भारतीयों की नौकरी चली गई थी। आर्थिक तंगी के कारण उन्हें खाने के लाले पड़े गए थे। भोजन खरीदने में असमर्थ लोगों को भारतीय मिशन ने भोजन उपलब्ध करवाया। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को संसद में बताया था कि कामगारों को वापस भारत लाया जाएगा। उन्होंने जोर देकर कहा था कि उनमें से किसी को भी भूखा नहीं रहना होगा। स्वराज ने कहा था, ‘‘एक भी भारतीय कामगार भूखा नहीं रहेगा। संसद के जरिए मैं देश को यह आश्वासन दे रही हूं। हम उन सभी को वापस भारत लेकर आएंगे।’’ सिंह के दौरे के जरिए भारत लौटने के इच्छुक लोगों की संभावित स्वदेश वापसी के लिए जो व्यवस्था और औपचारिकताएं की जानी हैं, उन पर आगे बढ़ा जाएगा।

    आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि खाड़ी में अर्थव्यवस्था के चरमराने के कारण लगभग 10,000 भारतीय कामगार प्रभावित हुए हैं और यहां के हालात ‘‘अस्थिर हैं तथा तेजी से बदल रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि हर कंपनी में परिस्थिति भिन्न है। सूत्रों ने बताया कि रियाद में 3,172 भारतीय कामगारों को कई महीनों से वेतन नहीं मिल रहा है हालांकि उन्हें नियमित रूप से भोजन जरूर दिया जा रहा है। सऊदी ओगर कंपनी में काम करने वाले 2,450 भारतीय कामगार जेद्दा, मक्का और ताइफ में पांच कैंपों में रह रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक कंपनी ने 25 जुलाई के बाद से कर्मचारियों को भोजन देना बंद कर दिया है। उन्हें बकाया वेतन भी नहीं दिया जा रहा है।

    सूत्रों ने बताया कि प्रवासियों की मदद से जेद्दा स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास ने कामगारों को भोजन उपलब्ध करवाया है जो अगले आठ से दस दिन के लिए पर्याप्त होगा। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि भारत सरकार सऊदी अरब के विदेश और श्रमिक विभाग के संपर्क में है। उन्होंने कहा कि प्रभावित भारतीयों को वहां से जल्द से जल्द निकाला जाएगा। सरकार ने सऊदी के अधिकारियों से अनुरोध किया है कि वे बेरोजगार भारतीय कर्मचारियों को नियोक्ता की ओर से मिलने वाले अनापत्ति प्रमाण पत्र के बगैर ही एग्जिट वीजा जारी करें। उनसे यह भी अनुरोध किया गया है कि जब भी वे संबद्ध कंपनियों के साथ लेनदेन संबंधी बातचीत करें तब वह उन कर्मचारियों को उनका बकाया जरूर दिलवा दें जिन्हें कई महीनों से वेतन नहीं मिला है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here