संसार में कोई भी व्यक्ति योग्यताहीन नही होता-साध्वी भारती

    0
    12

    संसार में कोई भी व्यक्ति योग्यताहीन नही होता।
    होशियारपुर। दिव्य ज्योति जागृति संस्थान गौतम नगर होशियारपुर की और से करवाए गए धार्मिक कार्यक्रम में प्रवचन करते हुए श्री आशुतोष महाराज जी कि शिष्या साध्वी ईश्वरप्रीता भारती जी ने उपस्थित प्रभु प्रेमियों को सम्बोधित करते हुए कहा संसार में कोई भी व्यक्ति योग्यताहीन नही होता। प्रत्येक व्यक्ति में कोई न कोई योग्यता अवश्य होती हैं। आवयश्कता हैं तो के वल योग्यता को पहचान कर प्रयोग में लाने की। यदि मनुष्य अपनी क्षमताओं को ह्दय से समझ लें एवं विकसित करें तो नि:सन्देह उत्थान का मार्ग पशस्त होता ही होता है। यंू तो मानव में सहज-सुलभ कई प्रकार के बल माने जाते हैं। जिनमें है- ऐन्द्रिक बल, मनोबल, आत्मिक बल। इनमें अकसर लोग अपनी जीवन गाड़ी में मनोबल के ईधन से ही चलाते हैं परन्तु जीवन की दौड़ में कुछ ऐसे पल भी आते हैं, जब यह ईधन खस्ता होने लगता हैं। कई बार मनोबल के कमजोर होने से मनुष्य आत्महीनता की गहरी खाइयों में चला जाता है। तो उस समय जीव को आत्मबल की आवश्यकता होती हैं।
    साध्वी जी ने अपने विचारों में आगे कहा कि कई विद्वानों का यह मत है कि मनोबल मानवीय भावनाओं के उत्कर्ष एवं विकास का ही नाम है परन्तु महापुरषों के मत अनुसार मनोबल का मूल-स्रोत व्यक्ति की अंतरात्मा होती है। इसलिए इसे निश्चित तौर पर आत्मा से संबंधित रखा जाना चाहिए। यदि कोई व्यक्ति अपने मन-बुद्धि का सम्बंध सर्वश्रेष्ठ ब्रहम से जोड़ लेता है तो मनुष्य के संकल्पों में दृढ़ता और शुभता का समावेश होता जाता है और ईश्वर के दीदार प्राप्ति हेतु हमें समय के पूर्ण सद्गुरू की आवश्यकता होती है, वे ही हमें प्रभु के प्रकाश का दर्शन करवा हमें आत्म स्वरूप से जोड़ते हैं। भंडारे के पावन अवसर पर भारी संख्या में श्रोतागणों ने पहुँच कर अनमोल सत्संग विचारों से लाभ प्राप्त किया

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here