लोगों को जीते-जी मारने पर तुला है पावरकॉम – एडवोकेट जैरथ

    0
    8

    – 2-3 हजार के औसतन बिजली खपतकार को थमाया 2,81,840 रु पए का बिल

    होशियारपुर। ऐसा लगता है कि इस बार अकाली व भाजपा ने आने वाले पंजाब विधान सभा चुनावों के लिए होने वाला सारा चुनावी खर्च पंजाब स्टेट पावर कार्पोरेशन लिमिटेड के जिम्मे लगा दिया है। पावरकॉम ने यही पैसे आम जनता को दिए जाने वाले बिलों में लगाकर भेजने शुरू कर दिए हैं। यदि ऐसा नहीं होता तो पंजाब सरकार द्वारा पावरकॉम के खिलाफ आम जनता को बार बार उनकी बिजली की खपत से अधिक बिलों के भेजने पर कोई बड़ी कारवाई की होती। उक्त शब्द आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद के सदस्य एडवोकेट नवीन जैरथ ने बिजली के उपभोक्ता बलविंदर सिंह की आप बीती सुनने के बाद कहे। बलविंदर सिंह ने आज ही एडवेकेट जैरथ ने मुलाकात कर उन्हें बताया कि वह रेलवे रोड़ होशियारपुर में एक छोटा सा जनरल स्टोर चलाते हैं और उनकी दुकान पर बिजली का मीटर उनकी पत्नी मनजीत कौर के नाम पर है। उनकी दुकान का औसतन 2 महीने का बिजली का बिल लगभग 2-3 हजार रु पए आता था। जब दो महीने पहले उनकी दुकान का बिल लगभग 5500 रु पए के करीब आया तो उन्हें बहुत हैरानी हुई। उन्होंने इस संबंधी शिकायत पावरकॉम के चीफ इंजीनियर से की पर आज तक उसके इस बिल का कोई निप्टारा नहीं किया गया। हैरानी की हद तो तब हुई जब 2-3 दिन पहले उन्हें बिजली का ताजा बिल जमा करवाने के लिए कहा गया। यह बिल 281840 रु पए का दिया गया जिसमें बिजली की पुरानी रीडिंग 0 दिखाई गई जबकि ताजा रीडिंग 12861 युनिट दिखाई गई। उन्होंने बताया कि पिछले बिल की शिकायत करने से पहले उनके पुराने बिल में 11635 तक रीडिंग पहले ही दर्शाई जा चुकी है।
    आम आदमी पार्टी के नेता जैरथ के सामने गुहार लगाते हुए उन्होंने कहा कि सत्ता दल का कोई भी नेता उनकी आवाज सुनने को तैयार नहीं ऐसे में उन्हें केवल आम आदमी पार्टी पर भरोसा
    है। जैरथ ने इस मामले को बहुत गंभीर बताते हुए कहा कि पंजाब सरकार के अधीन काम कर रही पावरकॉम की कार्यप्रणाली देखते हुए ऐसा प्रतीत होता है कि पावरक ॉम आम लोगों को न केवल लूटने पर आमदा है बल्कि वह जनता को जीते-जी मारना चाहती हैं। जब जनता किसी अधिकारी के पास आवाज उठाती है तो उन्हें यह कहकर टाल दिया जाता है कि पंजाब सरकार द्वारा निजी स्वार्थों के चलते बिल बनाने के ठेके गलत लोगों को दिए गए हैं जिन्हें बिजली बिलों संबंधी काम करना ही नहीं आता। जैरथ ने बलविंदर सिंह को आश्वासन देते हुए कहा कि वह यह सारा मामला
    पावरकॉम के उच्च अधिकारीयों समक्ष उठाएंगे। आवश्यक्ता पडऩे पर वह इस मामले में बिना फीस लिए हाई कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाने से पीछे नहीं हटेंगे।
    फोटो- आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद के सदस्य एडवोकेट नवीन जैरथ को आप बीती सुनाता पीडि़त बलविंदर सिंह।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here