यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन हुआ अलग लेकिन ज्यादा असर भारत पर

    0
    31

    लंदन। ब्रिटेन अब यूरोपीय यूनियन का हिस्‍सा नहीं रहेगा। ब्रिटेन की जनता ने अपने देश के भविष्‍य का फैसला कर चुकी है। यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन के अलग होने पर सारे देशों की अर्थव्‍यवस्‍था पर असर पड़ेगा खासकर भारत पर।

    यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन के अलग होने का असर

    ब्रिटेन में जनमत संग्रह का विरोध कर रहे लोगों ने अपनी भड़ास निकालते हुए कहा है कि अच्‍छी जिंदगी जीने के लिए यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन का बाहर निकलना जरूरी है। ब्रिटेन में अप्रवासी भारतीयों ने भी अपने विचार प्रस्‍तुत करते हुए कहा है कि यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन बाहर निकलने पर सुरक्षा और रोजगार के हालात अच्‍छे होंगे।

    यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन के बाहर होने का भारत पर यह होगा असर?

    भारत के लिए ईयू सबसे बड़ा एक्सपोर्ट मार्केट

    यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन के बाहर होने पर यूरोपियन यूनियन से कारोबारी रिश्ते रखने वाले देशों पर बुरा असर पड़ेगा। भारत के लिए तो यूरोपियन यूनियन सबसे बड़ा एक्सपोर्ट मार्केट है। 50 करोड़ आबादी वाले यूरोपियन यूनियन की अर्थव्यवस्था 16 खरब डॉलर है जो पूरी दुनिया की जीडीपी के एक चौथाई के बराबर है। सरकार के आंकड़ें के मुताबिक 2015-16 में ब्रिटेन के साथ व्यापार 94 हजार 300 करोड़ रुपये रहा जिसमें 59 हजार 100 करोड़ रुपये निर्यात और 34 हजार 700 करोड़ रुपये का आयात हुआ।

    ब्रिटेन में काम कर रही 800 कंपनियों पर पड़ेगा प्रतिकूल असर

    अगर जनमत संग्रह ईय़ू के खिलाफ आता है तो इसका सबसे ज्यादा असर ब्रिटेन में काम कर रही 800 भारतीय कंपनियों पर पड़ सकता है। खास तौर पर भारतीय आईटी सेक्टर के 6 से 18 फीसदी कमाई ब्रिटेन से ही होती है। भारतीय कंपनियों के लिए यूरोप में घुसने का रास्ता ब्रिटेन से शुरु होता है। ऐसे में ब्रिटेन के यूरोप से अलग होने पर यूरोप के देशों से नए करार करने होंगे। कंपनिय़ों का खर्च बढ़ेगा और अलग अलग देशों के अलग अलग नियम-कानून से जूझना होगा।

    सबसे ज्यादा असर पड़ेगा भारतीय रुपए पर

    इसके कारण भारत की करेंसी पर भी असर पड़ेगा। यूरो-पाउंड के झगड़े में दुनिया भर में डॉलर की मांग बढ़ने से डॉलर महंगा होगा। डॉलर महंगा होने से विदेश से खरीदा जानेवाला सोना और इलेक्ट्रॉनिक गुड्स भी महंगे हो सकते हैं। डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत घटेगी। ऐसा होने से भारत को कच्चे तेल के लिए ज्यादा पैसे देने होंगे। यानि पेट्रोल और डीजल की कीमत भी बढ़ेगी। अगर सरकार पेट्रोल-डीजल की कीमत में बढ़ोतरी को रोकना चाहती है तो फिर उसे अतिरिक्त एक्साइज ड्यूटी में थोड़ी छूट देनी होगी।

    भारत की आईटी कंपनियां होंगी प्रभावित

    अगर ब्रिटेन, यूरोपियन यूनियन से बाहर निकल जाता है तो आईटी सेक्टर पर असर देखने को मिल सकता है। ब्रेक्सिट से करेंसी में उतार-चढ़ाव से दिक्कतें बढ़ेंगी और ज्यादातर आईटी कंपनियों पर असर दिखेगा। एचसीएल टेक की 33 फीसदी आय यूरोप से आती है। टीसीएस की कुल आय में यूरोप का योगदान 14 फीसदी का है, तो विप्रो की आय में 12 फीसदी का योगदान है। टेक महिंद्रा की आय में भी 12 फीसदी का योगदान है, तो इंफोसिस की आय में 6.6 फीसदी का योगदान है।

    टाटा मोटर्स आ सकता है दवाब में

    ब्रेक्सिट का असर ऑटो सेक्टर पर भी देखने को मिलेगा। ब्रेक्सिट होने पर ट्रेड की शर्तें कड़ी हो सकती हैं और इसका जेएलआर पर निगेटिव असर संभव है, इससे टाटा मोटर्स दबाव में आ सकता है। जेएलआर की कुल बिक्री का 80 फीसदी हिस्सा यूरोप से आता है। वहीं भारत फोर्ज की आय का 25 फीसदी हिस्सा यूरोप से आता है। यूरोप में मदरसन सुमी की कई सब्सिडियरी हैं और मदरसन सुमी की 80 फीसदी आय सब्सिडियरी से ही आती है।

    पंद्रह फीसदी हिस्‍सा आता है ब्रिटेन से

    भारत के कुल एक्सपोर्ट का 15 फीसदी हिस्सा ब्रिटेन जाता है और भारत में कुल एफडीआई का 8 फीसदी ब्रिटेन से आता है। ब्रिटेन के यूरोपियन यूनियन से बाहर निकलने पर भारत में कारोबार पर असर पड़ने की आशंका नहीं है, लेकिन आगे चलकर भारत को ब्रिटेन के साथ अलग से व्यापारिक समझौते करने होंगे।

    भारत की प्रमुख कंपनियां जिनपर पड़ेगा असर

    भारत की बड़ी कंपनियों में मदरसन सूमी की कुल आय में यूरोजोन का हिस्सा 65 फीसदी है।

    बालकृष्ण इंडस्ट्रीज की कुल आय में यूरोजोन का हिस्सा 50 फीसदी है।

    एचसीएल टेक की की कुल आय में यूरोजोन का हिस्सा 31 फीसदी का है।

    एआईए इंजीनियरिंग की कुल आय में यूरोजोन का हिस्सा 30 फीसदी है।

    कमिंस की कुल आय में यूरोजोन का हिस्सा 30 फीसदी है।

    भारत फोर्ज की कुल आय में यूरोजोन का हिस्सा 30 फीसदी है।

    अपोलो टायर्स की कुल आय में यूरोजोन का हिस्सा 30 फीसदी है।

    माइंडट्री की कुल आय में यूरोजोन का का हिस्सा 25 फीसदी है।

    वैबको की कुल आय में यूरोजोन का हिस्सा 20 फीसदी का है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here