मौडम सिद्धू के बेबाक बोल, अकाली-भाजपा गठबंधन के लिए प्रचार नहीं करेगा सिद्धू दम्पति

    0
    13

    अमृतसरः मैडम नवजोत कौर सिद्धू अपने बेबाक बोलों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहती है।  उनका कहना यही है कि वे अकाली-भाजपा गठबंधन के साथ नहीं है अगर वे दोनों अगर मिलकर चुनाव लडेंगे तो सिद्धू दम्पति प्रचार नहीं करेगा।

    अकाली सरकार द्वारा करवाए जा रहे विकास कार्यों को लेकर मैडम सिद्धू का कहना है कि उनके हलके में काम तो जरूर शुरू हो गया है, परन्तु जिन कामों को प्राथमिकता देनी चाहिए थी और मिलकर विचार करना चाहिए था, उस तरह नहीं हो सका। उन्होंने कहा अमृतसर में चल रहे बी.आर.टी.एस. प्रोजैक्ट, प्रवेश गेट जैसे रुके हुए कामों ने बहुत नुक्सान किया है। चुनाव आने वाले हैं, परन्तु शहर के काम अभी भी अधूरे पड़े हैं। उन्होंने कहा सरकार को यह नहीं सोचना चाहिए कि चुनाव के अंतिम समय में काम करने से लोग अधिक खुश होंगे, जबकि लोग पिछले 4 सालों से इधर-उधर भटक रहे हैं। हैरानी वाली बात है कि अभी तक शहर में कोई भी सी.सी.टी.वी. कैमरा नहीं है और न ही ट्रैफिक का कोई हल किया गया है।

    अकाली-भाजपा गंठबंधन पर नवजोत ने कहा कि साथ मिलकर न चलने की अावाज मेरी नहीं बल्कि भाजपा के समूह वर्करों की  थी। मैंने हमेशा कोशिश की कि गठबंधन हमेशा सत्कार वाला चाहिए, परन्तु अफसोस कि अकाली दल में भाजपा को इज्जत नहीं मिली। उलटा भाजपा वर्करों पर पर्चे किए गए और उनको दबाया गया। मेरी सोच है कि अगर मेरे मुताबिक भाजपा अलग हो जाती तो शायद यह गठबंधन और भी मजबूत हो जाना था, क्योंकि सरकार में रहकर तो हमारी सुनी ही नहीं गई। खैर वह मुद्दा तो अब खत्म हो गया क्योंकि सीनियर लीडरशिप ने तय कर लिया है कि 2017 में अकाली-भाजपा मिलकर चुनाव लड़ेंगे, ऐसे में अकेली नवजोत कौर की सलाह कोई मायने नहीं रखती। परन्तु मैं फिर साफ करती हूं कि मैं अकाली दल का हिस्सा नहीं बनूंगी। बाकी मैं समझती हूं कि यदि सत्य बोलने वाले की कद्र पड़े तो पार्टी की शाखा भी काफी हद तक बदल जाती है।

     

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here