माहिलपुर पुलिस ने की धक्केशाही , इंसाफ के लिए एसएसपी से मांग

    0
    20

    जोती सरूप ने लगाए गांव ख़ुशी पदादि के नंबरदार और थाना माहिलपुर की पुलिस पर धकेशाही के आरोप
    मांगी आर टी आई की रिपोर्ट बी डी पी औ और पंचायत सेक्टरी ने तीन महीने से दबाई
    पुलिस ने दर्ज ऍफ़ आर आई में 326 काट कर दिया 325 — एस एस पी को लिखा इंसाफ के लिए पत्र
    होशियारपुर —- Daljit Ajnoha

    गांव सैला खुर्द के एक आदमी ने गांव ख़ुशी पदादि के पुर्व सरपंच और नंबरदार पर आरोप लगाए हैं के उसने उनसे धोखे से सैला खुर्द में तीन दुकाने जुलाई 2013 में कराए पर लीं लेकिन जब उसने वादे के मुताबिक कराया मांगा तो उसने अपने बेटे और अपनी उच्च सियासी पहुँच से उन पर 16 -10 2015 पर जानलेवा हमला करवा दिया जिस सदका वो काफी समय होशियारपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती रहा | इस बारे थाना माहिलपुर की पुलिस ने 19 -10 2015 को कथित दोषी पुर्व सरपंच के बेटे विरुद्ध केस भी दर्ज किया गया लेकिन पुलिस ने साल बीत जाने के बाद भी उसकी कोई सुनवाई नहीं की और उक्त आदमी अब भी उसकी दुकानों पर नाजायज कब्जा करके बैठा हुआ हैं और बनता 12 महीने का 36000 रुपए किराया भी नहीं दे रहा | पीडत आदमी ने एस एस पी होशियारपुर से इंसाफ की मांग की हैं और इस केस को खराब करने वाले सैला खुर्द पुलिस और पुर्व सरपंच विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई की मांग की हैं |
    आज माहिलपुर में पत्रकारों से बात करते हुए एस एस पी होशियारपुर को की गई लिखित शिकायत के बारे में जानकारी देते हुए सैला खुर्द के वासी जोती सरूप पुत्र जोगिंदर पाल ने बतायाके गांव ख़ुशी पड़दि का पुर्व सरपंच और नंबरदार राज कुमार ने उनसे जुलाई 2013 में सैला खुर्द में तीन दुकाने किराए पर ली और उसके लड़के ने जिनमें बिजली का सामान रखा | उसने बताया के राज कुमार को यह दुकाने 3000 रुपए प्रति महीना किराए पर दी थी लेकिन उसने दुकाने लेने और उनमें बिजली का सामान पाने के बाद उनको किराए देने से आना कनि शुरू कर दी | उसने बताया के जब उसने किराया ना देने का कारण पुछा तो उसने पुलिस से मिलकर 16 -10 2015 को अपने लड़के करनदीप सिंह से उसकी बुरी तरह से पिटाई करवा दी और उसके लड़के ने उसके नक् पर तेज धार कमानी से हमला कर उसको बुरी तरह से घायल कर दिया |
    जोति ने बताया के थाना माहिलपुर की पुलिस ने इस बारे 19 -10 -2015 को धारा 323 और 326 तहत दोषी करनदीप सिंह विरुद्ध केस भी दर्ज किया लेकिन राज कुमार ने पुलिस से मिलकर दर्ज की गई धारा ही तुड़वा डाली और थानेदार कुलदीप सिंह ने माहिलपुर के एस अच् औ से मिलकर पहले तो दोनों धीरों में राजीनामे के लिए दबाव डाला लेकिन जब उसने दुकाने खाली करने और बनता 33000 रुपए कराया मांगा तो राज कुमार ने उसको दिए जाने वाले पैसे करीब जो एक लाख देने की राज कुमार उनसे कह रहा था ,वो पुलिस को दे दिए और उसकी कोई भी सुनवाई नहीं की सगों उसके दर्ज केस को और कमजोर कर डाला | उसने बताया के राज कुमार और उसका बेटा यूनस्को परिवार समेत जान से मारने की धमकी देता हैं और उसकी तीनों दुकाने पुलिस की सहायता से अपने कब्जे में की हुई हैं और कराया भी नहीं दे रहे | उसने मांग की हैं के उनको इंसाफ दिलवाया जाए और दोषी विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए |
    पीडत जोती ने बताया के उसने डिप्टी कॉमिश्नर होशियारपुर को आर टी आई तहत पत्र लिखकर 3 -6 -2016 को उनसे गांव ख़ुशी पादड़ी का उस समय का रिकॉर्ड मांगा हैं जिस समय दौरान राज कुमार गांव का सरपंच रहा लेकिन बी डी पी औ और पंचायत सेक्टरी उनको रिकॉर्ड दे ही नहीं रहे | उसने बताया के राज कुमार ने 1 -4 -1993 से 31 -3 -2003 और 1 -4 -2008 से 31 -3 -2013 तक गांव का सरपंच होते हुए गांव के विकास के लिए मिली सरकारी ग्रांटों में लाखों रुपए का हेर फेर किया जिसकी जाँच होनी चाहीदी हैं | उसने आर टी आई तहत मांगी गई जानकारी ना देने वाले अफसर के विरुद्ध केस दर्ज करने की मांग की हैं |
    इस बारे नंबरदार राज कुमार ने बताया के जोति सरूप उनको खुद खजल कर रहा हैं | उसने उसके लड़के से लड़ाई की और गाली गलोच किया जिसमें दोनों जख्मी हुए थे | लेकिन फिर भी वो तो उसको किराए समेत इलाज के लिए एक लाख रुपए राजीनामे के लिए दे रहे थे लेकिन उसने राजीनामा करने की बजाए उनपर अदालत में केस कर दिया | उन्होंने उसकी दुकानों पर कोई नाजायज कब्जा नहीं किया और बनता किराया देने को तैयार हैं लेकिन वो खुद ही नहीं ले रहा |
    इस बारे थाना माहिलपुर के एस अच् औ दिलबाग सिंह ने बताया के राज कुमार और जोती का दुकानों को लेकर आपस में झगड़ा हैं | दोनों ही पुलिस की बात नहीं मानने को तैयार नहीं हैं | पुलिस ने कोई धकेशाही नहीं की जोति झूठ बोल रहा हैं |
    इस बारे बी डी पी औ बावा सिंह गढ़शंकर ने बताया के उनको इस केस के बारे में कोई जानकारी नहीं हैं | उन्होंने थोड़े दिन पहले ही चार्ज लिया हैं | आर टी आई का जवाब देना तो जरूरी हैं वो खुद इस बारे जाँच कर मांगी गई जानकारी को चेक कर जवाब तैयार करवा भेज देंगे |
    —- पत्रकारों को अपने साथ हो रही बेइंसाफी के बारे में जानकारी देते हुए जोती सरूप

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here