भारत ने पहली बार चीन के 3 जर्नलिस्ट से देश छोड़ने को कहा

    0
    18

     

    नई दिल्ली: भारत ने चीन के तीन पत्रकारों की वीजा अवधि बढ़ाने से इंकार करते हुए उन्हें देश छोड़ने का आदेश दिया है। यह तीनों पत्रकार चीन के सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के लिए काम करते हैं। भारत ने इन तीनों जर्नलिस्ट को 31 जुलाई तक देश छोड़ने के लिए कहा है। सरकार ने इनका वीजा बढ़ाने से मना कर दिया। इसकी कोई वजह भी नहीं बताई है लेकिन कहा जा रहा है कि यह फैसला इंटेलिजेंस एजेंसियों के अलर्ट के बाद लिया गया है। भारत ने चीन के मामले में पहली बार इस तरह का कदम उठाया है।

    आरोप है कि ये लोग संदिग्ध गतिविधियों में भी शामिल थे। इस कदम के बाद भारत और चीन के रिश्तों में और खटास आ सकती है। वु कियांग और लू तांग नई दिल्ली और मुंबई के ब्यूरो हेड है जबकि शे योंगांग मुंबई में रिपोर्ट का काम करते हैं। सूत्रों के मुताबिक, इस कार्रवाई का यह मतलब नहीं है कि शिन्हुआ के जर्नलिस्ट भारत में काम नहीं कर सकते। एजेंसी इनकी जगह पर नए अप्वॉइंटमेंट्स कर सकती है। गौरतलब है कि एनएसजी में भारत की सदस्यता पर चीन की आपत्ति से दोनों देशों के संबंध में खटास पैदा हुआ है।

    बता दें कि विदेशी पत्रकार जब अपने लेखों और रिपोर्टिंग के तरीकों में सरकार की ऑफिशल पॉलिसी का उल्लंघन करने लगते हैं तो सरकार उनका वीजा अवधि नहीं बढ़ाती है लेकिन तीनों पत्रकारों की वाजी अवधि नहीं बढ़ाने पर अभी विदेश मंत्रालय कुछ भी प्रतिक्रिया देने से इंकार किया है। वहीं इंटेलिजेंस एजेंसियों ने यह अलर्ट दिया था कि ये तीनों जर्नलिस्ट किसी और नाम और पहचान का इस्तेमाल कर कुछ ऐसी जगहों पर विजिट कर रहे हैं जहां आम लोगों या मीडिया के जाने पर मनाही है। इनकी गतिविधियों पर इंटेलिजेंस एजेंसियों को शक था।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here