प्रधानमंत्री योजनाओं का जरुरतमंदों तक पहुंचे लाभ : डीसी

    0
    29

    ज्योत्सना विज, होशियारपुर। प्रधानमंत्री द्वारा शुरु की गई जन कल्याण योजनाओं का जरुरतमंदों तक जरुर लाभ पहुंचना चाहिए। इसके लिए प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, जीवन ज्योति बीमा योजना व अटल पैंशन योजना में अधिक से अधिक जरुरतमंद लोगों को जोड़ा जाए। यह ऐसी योजनाएं हैं जिनमें सामाजिक सुरक्षा के साथ साथ जरुरतमंदों का भविष्य भी सुधर सकता है। डिप्टी कमिश्नर विपुल उज्जवल ने जिला प्रबंधकीय कम्पलैक्स में जिले की लीड बैंक की ओर से जिले के बैंकों की कार्रगुजारी का जायजा लेते हुए दिशा निर्देश जारी किए। इससे पहले उन्होंने जिला कर्ज योजना 2017-18 का ब्यौरा भी जारी किए।
    डिप्टी कमिश्नर ने समूह बैंक मैनेजरों को दिशा निर्देश देते हुए कहा कि वह आईटीआई, पोलीटैक्निकल व सर्किल डिवैल्पमेंट करवाने वाले शिक्षार्थियों की जरुरत अनुसार अधक से अधिक लोन मुहैय्या करवाएं। उन्होंने कैशलेस को बढ़ावा देने के लिए बैंकों द्वारा जिले में कोई भी एक गांव या दफ्तर चुना जा सकता है, जहां सारी ट्राजेंक्शन डिजीटल तरीके से की जाएं। इस तरह से जहां कैशलेस प्रक्रिया के द्वारा लेन देन को बढ़ावा मिलेगा वहीं एक दूसरे को देख कर जागरुकता भी बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि बैंक पूरी तनदेही से यह स्कीमें लागू करें तथा इस संबंधी निल रिपोर्टों को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि साल 2017-18 दौरान जिले में 10060 करोड़ रुपए का कर्ज देने का प्रावधान रखा गया है। इस के तहत ्धिक से अधिक कर्ज जरुरतमंदों को दिए जाएं। उन्होंने सीडी रेशो बढ़ाने की जरुरत बारे बात करते हुए बैंकों को इस ओर ध्यान देने की ओर कहा ताकि अधिक से अधिक लोग खास तौर पर पढ़े लिखे बेरोजगार नौजवान व समाज के कमजोर वर्गों के लोग कर्जे प्राप्त करके आर्थिक धंधे शुरु कर सकें।
    उन्होंने कहा कि जिले के विभिन्न बैंको की ओर से कर्जा योजना साल 2016-17 तहत मार्च 2017 तक करीब 7500 करोड़ रुपए के कर्जे दिए गए हैं। इस में प्राथमिकता ैसक्टर में 5184 करोड़ रुपए, गैर प्राथमिकता सैक्टर में 2316 करोड़ रुपए के कर्जे दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्राथमिकता सैक्टर में 3450 करोड़ रुपए खेतीबाड़ी के लिए, 1258 करोड़ रुपए गैर खेती सैक्टर के लिए व 475 करोड़ रुपए बाकी प्राथमिकता सैक्टर को कर्जे के रुप में दिए गए।
    इस दौरान पंजाब नेशनल बैंक के डीजीएम अनिल कुमार ने बताया कि जिले की बैंकों में जमा की गई राशियां जोकि मार्च 2016 में 21795 करोड़ रुपए थीं, मार्च 2017 में बढ़ कर 7317 करोड़ रुपए हो गई हैं।
    एजीएम नाबार्ड इंद्रजीत कौर ने बताया कि जले में मार्च 2017 तक 4493 स्व: सहायता ग्रुपों के बैंकों में बचत खाते खोले गए थे। इनमें से 3259 स्व: सहायता ग्रुपों को आर्थिक धंधे शुरु करने के लिए बैंकों की ओर से कर्जे दिए गए हैं। उन्होंने बैंकों को जोर देते हुए कहा कि ज्यादा से ज्यादा स्व: सहायता ग्रुपों को बैंक कर्जे के साथ जोड़ा जाए। जिला लीड मैनेजर अरविंद कुमार सरोच ने बताया कि जिले में बैंकों की ोर से मार्च 2017 तक 178987 किसानों को 5537 करोड़ रुपए के किसान कार्ड जारी किए गए हैं। इस मौके एलडीओ आर बी आई एन के कुरैशी सहित विभिन्न बैंकों को मैनेजर व सरकारी विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here