पंजाब सरकार अपनों को लाभ पहुँचाने के लिए सरकारी स्कूलों की हालत खस्ता कर रही – जैरथ

    0
    19

    पंजाब सरकार की ‘8वीं तक सभी पास’ की नीति गरीबों के लिए अति घातक
    होशियारपुर . नौजवानों के एक समूह को संबोधित करते हुए आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद के सदस्य एडवोकेट नवीन जैरथ, ट्रेड विंग के वाईस प्रधान संदीप सैनी, पूर्व पार्षद खरैती लाल कतना, राजेश सैनी व हरपाल लाडा ने कहा कि चाहे भाजपा हो या अकाली दल या फिर कांग्रेस, जिस सरकार ने भी आजादी के बाद देश के लोगों पर शासन किया है, उनका लक्षय केवल प्राईवेट स्कूलों की गिनती में बढ़ावा करना व सरकारी स्कूलों को खस्ता हालत में पहुंचाना ही रहा है। उन्होंने कहा कि ज्यादातर प्राईवेट स्कूल राजनेताओं, उद्योगपतियों, उच्च अफ्सरशाही के रिश्तेदारों व अन्य प्रभावशाली व्यक्तियों द्वारा चलाए जाते हैं तथा इनमें पढऩे वाले अधिक्तर बच्चे भी सम्पन्न परिवारों से होते हैं। वहीं दूसरी तरफ सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले अधिक्तर बच्चे गरीब परिवारों से होते हैं। ऐसे में सरकारी स्कूलों की दशा में भाजपा, अकाली व कांग्रेस सरकारों द्वारा सुधार न लाना सीधे तौर पर गरीब बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ रहा है। वहीं दिल्ली में जहां ‘आप’ की सरकार बनने के बाद सरकारी स्कूलों में बडे सुधार किए गए हैं, वहीं दिल्ली के प्राईवेट स्कूलों द्वारा अपनी मनमर्जी से फीसों में बेतहासा वृद्धी पर रोक लगाकर ‘आप’ की सरकार द्वारा गरीब व सामान्य वर्ग के बच्चों के साथ न्याय किया जा रहा है।
    जैरथ ने पंजाब सरकार की सरकारी स्कूलों में ‘8वीं तक सभी पास’ की नीति का कड़ा विरोध करते हुए कहा कि इस नीति का गरीब बच्चों को सीधा नुक्सान हो रहा है क्योंकि 8वीं तक सरकारी स्कूलों में बच्चों को पढ़ाई के प्रति गंभीर नहीं किया जाता पर बाद में वही बच्चे जब नौवीं क क्षा में बड़े-बड़े प्राईवेट स्कूलों से आए बच्चों के साथ पढ़ते हैं तो वह पढ़ाई के मुकाबलों में उनसे काफी पिछड़ जाते हैं। जिससे उन्हें आगे जाकर सरकारी या प्राईवेट सैक्टर में नौकरियां नहीं मिल पाती। पंजाब सरकार पर बरसते हुए एडवोकेट जैरथ ने कहा कि अखिर वह गरीब बच्चों के साथ ही ऐसा अन्याय क्यों कर रही है? इसी कारण ही बेरोजगार होने के कारण गरीबों के बच्चे ज्यादा नशे की चपेट में आ रहे हैं जिससे उनके घर बर्बाद हो रहे हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here