पंजाब में नींव पत्थरों, उद्घाटनी शिलान्यासों पर किसी भी मंत्री-विधायक का नाम नहीं लिखा जाएगा

    0
    25

    JANGATHA TIMES: चंडीगढ़ : पंजाब में वीआईपी कल्चर को खत्म करने की ओर एक अन्य कदम उठाते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नींव व उद्घाटनी शिलान्यासों पर मंत्रियों व विधायकों सहित किसी भी सरकारी पदाधिकारी का नाम लिखने पर रोक लगा दी है। इस बाबत सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने स्वयं को भी इन आदेशों के घेरे से बाहर नहीं रखा जिसका उदेश्य वीआईपी कल्चर की रुकावट को हटाकर सरकार व लोगों के बीच मजबूत संपर्क कायम करना है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने घोषणा की कि सभी प्रोजैक्टों व कार्यक्रमों जिनमें मुख्यमंत्री, कैबिनेट मंत्रियों, विधायकों व अन्य पदाधिकारियों द्वारा उद्घाटन कर दिए गए हैं, को अब से पंजाबवासियों को समर्पित कर दिया जाएगा। प्रवक्ता ने कहा कि चाहे सरकारी पदाधिकारियों और लीडरों पर किसी इमारत या प्रोजैक्ट का नींव पत्थर रखने या उद्घाटन करने पर कोई रोक नहीं है पंरतु मुख्यमंत्री के आदेशों के संदर्भ में ऐसे पत्थरों पर लीडरों का नाम लिखने की प्रथा को तुंरत प्रभाव से खत्म किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कैबिनेट मंत्रियों और पार्टी के साथियों को लोगों से मिलने के मौके पर नम्रता रखने की अपील की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम आज इस रुतबे पर केवल राज्य के लोगों की बदौलत ही हैं जिस कारण लोगों के साथ हमेशा ही पूरे मान सम्मान और नम्रता से पेश आना हमारा कर्तव्य बनता है। सरकार बनने के शीघ्र बाद मुख्यमंत्री ने कांग्रेस के चुनाव मनोरथ पत्र की पालना करते हुए वाहनों से लाल बत्ती हटाकर वीपीआई कल्चर के खात्मे के लिए अपनी वचनबद्धता का सबूत दिया था। 

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here