पंजाब मंत्रिमंडल में अगले माह शामिल होंगे 8 नए मंत्री, ओपी सोनी-परगट सिंह का नाम लगभग तय, भट्टी बन सकते हैं डिप्टी स्पीकर

    0
    9

    JANGATHA TIMES : चंडीगढ़/जालंधर : मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के मंत्रिमंडल में विस्तार की तैयारी हो चुकी है। मई के दूसरे सप्ताह में मंत्रिमंडल विस्तार होने वाला है। इसके लिए कुछ नामों को शार्ट लिस्ट कर लिया गया है और कुछ नामों पर विचार चल रहा है। जिन नामों को शार्ट लिस्ट किया गया है उनमें सबसे ऊपर नाम है विधायक ओपी सोनी का। 
    विधायक ओपी सोनी : अमृतसर सेंट्रल से विधायक ओपी सोनी का नाम मंत्री पद के लिए लगभग फाइनल ही है। सोनी को मंत्री बनाने के पीछे मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की मंशा प्रदेश में हिंदू चेहरे को आगे लाने की है। दरअसल सरकार बनने के बाद अमरिंदर सिंह के साथ जिन 9 मंंत्रियों ने शपथ ग्रहण की थी उनमें हिंदू चेहरे को स्थान नहीं दिया गया था। इसलिए कांग्रेस सरकार सोनी को मंत्री पद देकर हिंदू समुदाय में जनाधार मजबूत करके भाजपा को झटका देने की तैयारी में है। अमृतसर सेंट्रल के विधायक ओपी सोनी तीन बार से विधायक हैं।
    परगट सिंह : सोनी के बाद नंबर आता है जालंधर कैंट से विधायक परगट सिंह का। परगट सिंह पहलेे शिअद में थे जोकि बाद में नवजोत सिंह सिद्धू के साथ कांग्रेस में चलेे गए। परगट सिंह को कैबिनेेट में शामिल करने का फैसला उसी समय हो गया था जब वे शिअद छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने के लिए सिद्धू के साथ दिल्ली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मिले थे। उसी समय सिद्धू और परगट को सरकार में सम्मानजनक स्थान देना तय हो गया था। सिद्धू को तो स्थानीय निकाय विभाग का मंत्री बना दिया गया जबकि अब परगट सिंह की बारी है।
    राकेश पांडे : परगट के बाद जिस नाम की सबसे ज्यादा चर्चा है वो है लुधियाना नार्थ के विधायक राकेश पांडे का। 1955 में जन्मे राकेश पांडे 1987 में सक्रिय राजनीति में आए और जिला यूथ कांग्रेस कमेटी के प्रधान बने। उनके पिता जोगिंदर पाल पांडे ने स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया। पांडे पंजाब एग्रो इंडस्ट्रीज कारपोरेशन के चेयरमैन भी रह चुके हैं। 
    गुरकीरत कोटली : खन्ना के विधायक गुुरकीरत कोटली को भी मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने की संभावना है। 1973 में जन्मे कोटली स्व. सीएम बेअंत सिंह के पौत्र हैं। उन्हेंं कैबिनेट में शामिल करके कैप्टन दिग्गज कांग्रेसी परिवारों को पार्टी में सम्मानजनक स्थान देने की कवायद पूरी करना चाहते हैं। 
    अमरिंदर राजा वडिंग: गिद्दड़बाहा से कांग्रेसी विधायक अमरिंदर राजा वडिंग को भी मंत्रिमंडल की सूची में शामिल किए जाने की संभावना है। 29 नवंबर 1977 में जन्मे अमरिंदर राजा वडिंग़ सक्रिय राजनेता हैं। यूथ कांग्रेस के प्रधान की कुर्सी  संभालने के कारण वडि़ंग कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी के काफी करीबी हैं और उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल करके कैप्टन यूथ कांग्रेस में नई जान फूंकने की तैयारी में हैं।
    इन नामों पर भी चर्चा
    मंत्रिमंडल में जिन और नामों को शामिल किया जा सकता है उनमें लुधियाना वेस्ट से विधायक भारत भूषण आशु, एसएस नगर के एमएलए बलबीर सिंह सिद्धू, डेरा बाबा नानक से सुखजिंदर सिंह रंधावा, फतेहगढ़ साहिब से कुलजीत नागरा, बाघापुराना से दर्शन सिंह बराड़, अमलोह से रणदीप सिंह के नाम भी चर्चा में हैं। आपको बता दें कि कैप्टन के साथ 9 मंत्रियों ने शपथ ली थी जिनमें दो राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) थे। 
    डिप्टी स्पीकर के लिए भट्टी का नाम तय
    विधानसभा में डिप्टी स्पीकर के लिए अजायब सिंह भट्टी का नाम भी फाइनल ही है। भट्टी मलोट से कांग्रेस विधायक हैं। 
    कैप्टन राहुल और सोनिया से करेंगे मुलाकात
    12 नामों पर कैबिनेट विस्तार पर चर्चा चल रही है। इनमें से 8 को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाना है। इन्हीं नामों के फाइनल कराने के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात करेंगे। पंजाब में जून में बजट सत्र है और कैप्टन की कोशिश है कि मई के पहले सप्ताह में मंत्रिमंडल विस्तार हो जाए ताकि मंत्री अपने अपने विभाग की कार्यशैली को बजट सत्र से पहले पहले समझ लें।
    कई दिग्गज कांग्रेसी नहीं बन पाए मंत्री
    इस बार के विधानसभा चुनाव में जो कांग्रेसी दिग्गज चुनाव हारे उनमें राजिंदर कौर भट्ठल, सुनील जाखड़ का नाम भी शामिल है। चुनाव हारने के कारण ये दिग्गज विधायक नहीं बन पाए इसलिए मंत्री पद तक फिलहाल नहीं पहुंचे हैं। वैसे पार्टी में इस मामले में लॉबिंग चल रही है। मंत्रियों के अलावा कैप्टन सरकार कुछ विधायकों को मुख्य संसदीय सचिव भी बनाएगी।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here