पंजाब के टीचर्स स्टूडैंट्स से भी ज्यादा नालायक

    0
    9

    cheema 

    मोहाली.पंजाब

    के सरकारी टीचर्स का हाल देखिए। शिक्षा बोर्ड के ऑडिटोरियम में बुधवार को 500 टीचर मंत्री डॉ. दलजीत चीमा को लिखित सुझाव दे रहे थे कि अच्छा रिजल्ट कैसे सकता है। इस दौरान एक पंजाबी टीचर ने पंजाबी में ही सिर्फ पांच लाइनें लिखीं, उसमें भी 15 गलतियां निकलीं। यही हाल दो इंग्लिश टीचर्स का था। एक ने English को Englizh और दूसरे ने Different को Difftirent लिखा। । मंत्री ने जब ये जवाब प्रोजेक्टर पर दिखने शुरू किए तो टीचर अपनी ही गलतियों पर ठहाके लगाकर हंसते रहे।10वीं कक्षा का इस बार घटिया परिणाम देने वाले स्कूलों के अध्यापकों व उनके प्रमुखों की पंजाब के शिक्षा मंत्री डा. दलजीत सिंह चीमा  क्लास ले रहे थे। गणित के अध्यापकों ने तो शिक्षा बोर्ड के विषय विशेषज्ञों पर ठीकरा फोड़ते हुए कहा कि यदि ये विशेषज्ञ पाठ्य पुस्तक थोड़ा आसान करते तो सारे बच्चे पास हो जाते।

    चीमा ने इन अध्यापकों को विशेष तौर पर अपना स्पष्टीकरण तथा सुझाव देने के लिए पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के ऑडिटोरियम में बुलाया था। पंजाब के कई अध्यापकों को विशेष ट्रेनिंग की जरूरत है जिसके लिए राज्य सरकार विशेष प्रबंध करेगी। उक्त शब्द शिक्षा मंत्री डा. दलजीत सिंह चीमा ने कम परिणाम देने वाले अध्यापकों की क्लास लगाने के बाद पत्रकार वार्ता में कही। उन्होंने कहा कि यदि अध्यापक खुद को समय के हिसाब से अपडेट नहीं करेगा तो इससे विद्यार्थियों का ही नुक्सान होगा।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here