नोटबंदी का फैसला ईमानदारी से लागू होता तो देश को हो सकता था फायदा – बी.टी.एफ.

    0
    27

    होशियारपुर। इस मौके पर पहुंचे फोर्स के नेताओं ने कहा कि मोदी सरकार का नोटबंदी पर 11 महीने की तैयारी की आज पूरी तरह से हवा निकल गई जब बैंक अधिकारीयों की मिलीभगत से काला बाजारीयों के पास से नई करंसी के नोट भारी संख्या में बरामद होने लग गए हैं। नेताओं ने हैरानी जताते हुए कहा कि दुनिया के सबसे बड़े लोकराजी देशों के शक्तिशाली नेता प्रधान मंत्री को क्यों नहीं पता चला कि उनके मंत्री मंडल, शासन प्रशासन और आर.बी.आई. और बाकी बैंकों के आधिकारी कमिशन लेकर काला बाजारीयों का धन सफेद कर रहे हैं। यह तो वह मिसाल हुई कि दूध की राखी बिल्ला। लोग हर रोज 2 हजार लेने के लिए लंबी लाईनों में सवेर से शाम तक बैंकों के आगे खड़े रहते हैं। ज्यादातर लोगों को बैंकों में कैश न होने के चलते खाली हाथ लौटना पड़ता है। उन्होंने कहा कि बैंकों में आई 90 प्रतिशत करंसी का भुगतान काले बाजारीयों को कर दिया जाता है और केवल 10 प्रतिशत भुगतान आम जनता को किया जाता है। खातों में से पैसे अन्य खातों में शिफ्ट किए जा रहे हैं जिसकी ग्राहकों को कोई जानकारी नहीं है। पासबुक पर एंटरी करवाने की कोई सुविधा नहीं है। नेताओं ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह बात बिलकुल भी हजम करने वाली नहीं है कि भाजपा, मोदी या उसकी सहयोगी पार्टियों के पास काला धन नहीं है। मोदी, भाजपा तथा उसके सहयोगियों का काला धन किस खाते में गया? क्या मोदी सरकार ने पिछले 11 महीनों की तैयारी के दौरान उन मंत्रीयों तथा सहयोगियों का काला धन सफेद कर लिया या अब अंदरखाते हो रहा है? उन्होंने कहा कि मोदी जी द्वारा नोटबंदी का फैसला अगर ईमानदारी से लिया जाता तो वह देश हित में होता और गरीब लोगों के साथ आज अमीर लोग भी लाईन में खड़े दिखाई देते। उन्होंने कहा कि अगर आज भी नरेंन्द्र मोदी को अपने इस फैसले को साबित करना है तो अपने मंत्रियों समेत सारे लीडरों पर पकड़ करें। इस से देश के खाते में काला धन और नामी संपतियांं जमा होंगी। इस के लिए मोदी सरकार लोकल पुलिस को छोडक़र अर्ध सैनिक बलों की सहायता लें क्योंकि यह भी देश को बचाने का मामला है। वर्णनीय है कि पंजाब में अभी तक कोई छापेमारी नहीं हुई है। पंजाब के बैंकों की भी छापेमारी होनी चाहिए। इस मौके पर चेयरमैन बिल्ला दिओवाल, कौमी प्रधान अशोक मल्हन, जिला प्रधान अमरजीत संधी, जिला इंचार्ज सोमदेव संधी, जिला सीनियर वाईस प्रधान देव राज, जिला सचिव रवी हर्खोवाल, ज्वाईंट सचिव बब्बू सिंगड़ीवाला, ओंकार बंटी, गुलजारा, जुझार, बिंदर आदि भी उपस्थित थे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here