धार्मिक कार्यक्रमों में बाउंसर खड़े करने पर लगे रोक:अश्विनी गैंद

    0
    9

    होशियारपुर। एक समय था जब हम अपने धार्मिक कार्यक्रम भाईचारे, सौहार्द और आपसी सहयोग से मनाए जाते थे तथा वहां पर शांति बनाए रखने का कार्य आयोजकों एवं श्रद्धालुओं द्वारा मिलजुल कर किया जाता था। परन्तु हाल ही में देखने को मिल रहा है कि कई संस्थाएं धार्मिक कार्यक्रमों दौरान श्रद्धालुओं को पंक्तिबद्ध करने तथा सुरक्षा के मद्देनजर बाउंसर खड़े कर दिए जाते हैं। जिससे आयोजकों की व्यवस्था पर कई प्रकार की सवाल खड़े होते हैं और बाउंसरों द्वारा श्रद्धालुओं से दुरव्यवहार करने के समाचार भी आते रहते हैं। इसलिए नई सोच यह मांग करती है कि जो संस्थाएं धार्मिक कार्यक्रमों में बाउंसर इत्यादि खड़ा करें उनका बायकाट किया जाए और प्रशासन भी अपनी तरफ से इस पर रोक लगाए। उक्त बात नई सोच संस्था के संस्थापक अध्यक्ष अश्विनी गैंद ने कार्यकर्ताओं के साथ एक बैठक में कही। उन्होंने कहा कि यह तो देखा जाता है कि धार्मिक कार्यक्रम दौरान संस्था के अपने कार्यकर्ता व्यवस्था में लगे हों, परन्तु जनता से इक_ा किए पैसे बाउंसरों पर खर्च करना तर्कसंगत नहीं कहा जा सकता। अश्विनी गैंद ने कहा कि यह हमारी मर्यादा नहीं है कि हम जिन श्रद्धालुओं के लिए धार्मिक कार्यक्रम करवाते हैं उन्हें श्रद्धालुओं को डराने और धमकाने के लिए उनके समक्ष ऐसे लोगों को खड़ा कर दिया जाए जिनमें श्रद्धाभाव नाममात्र ही होता है और वे सिर्फ पैसे के लिए आए होते हैं। उन्हें मर्यादा एवं श्रद्धालुओं की भावनाओं से कुछ लेना देना नहीं होता। इसलिए जनता को खुद ऐसे कार्यक्रमों का बायकाट करना चाहिए जहां पर बाउंसर इत्यादि खड़े करके लोगों को धक्के खाने को मजबूर होना पड़े। जहां तक सुरक्षा का सवाल है तो कार्यक्रमों में पुलिस प्रशासन से सहयोग लेना चाहिए। इस मौके पर राष्ट्रीय हिन्दू शिव सेना पंजाब के अध्यक्ष कमल शर्मा कोठारी ने कहा कि जल्द ही शहर की समस्त धार्मिक संस्थाओं की बैठक बुलाकर कार्यक्रमों में बाउंसर न बुलाने की अपील की जाएगी तथा इस संबंधी फिलहाल कुछेक संस्थाओं ने भविष्य में बाउंसर न लगाने का आश्वासन भी दिया है। इस मौके पर अजय जैन, अशोक शर्मा, लक्की ठाकुर, प्रदीप भल्ला, नीरज गैंद, राजेश शर्मा, सूरज मट्टू, मोंटी ठाकुर सहित अन्य सदस्य मौजूद थे।
    फोटो:- बैठक को संबोधित करते अश्विनी गैंद।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here