चर्चा- अनजान लोग बच्चे को शमशान घाट पर लेकर आये – गांव के लोगों को बच्चे की बलि देने का अशंका…?

    0
    27
    मोनिका शर्मा,माहिलपुर— 20 मई 2017 को एक छोटे बच्चे को लेकर शमशान घाट में घूम रहे व्यक्तियों पर शक होने पर गांव के लोगों ने पूछताछ की तो लोगों को मामला कुछ और ही नज़र आया लोगों को शक हुआ कि कही बच्चे को बलि देने के लिए तो नहीं लाया गया था यह सवाल का जवाब आज भी लोगो के लिए प्रशन ही बना हुआ है।
    गांव भाम के शमशान घाट पर बने महासती जगह के साहमने पानी लगा रहे जसवंत @ पम्मा   ने 20 मई दिन शनिवार समय साढ़े सात बजे जब शमशान घाट के पास खड़ी सफेद रंग की आल्टो के-10 कार नम्बर HP 44 2288 को करीब दो घंटे से जायदा खड़ी पाया और उसमें से दो व्यक्ति एक रोते हुए छोटे बच्चा जिसने स्कूल की ड्रेस पहनी हुई थी को लेकर शमशान घाट के अंदर घूम रहे थे।
    जसवंत के पूछने पर उन व्यक्तियों ने संतोषजनक जबाव ना दे सके।कभी वह कहते कि पीपल के दीया जलाने ,बच्चे का माथा टेकने तो कभी कड़ाही प्रसाद चढ़ाने के बहाने बनाने लगे। रो रहे बच्चे के बारे में पूछने पर अपना बच्चा बताया।
    इस दौरान गांव के और व्यक्ति भी पुहंच गए जिनमें गांव के नम्बरदार श्रवण सिंह , अशोक कुमार और गांव का सरपंच जसविंदर सिंह । गांव के ही दीपा पुत्र लेहम्बर ने कहा कि ये व्यक्ति हमारे रिश्तेदार है। उनके साथ आई एक औरत ने बच्चे को अपना बेटा बताया ।
    उसके वाद सरपंच ने सभी को घर जाने को बोल दिया।
    लोगो को सरपंच की भूमिका पर संदेह…….
    सरपंच जसविंदर सिंह ने न तो उन व्यक्तियों का नाम और ना ही एड्रेस जानने की कोशिश की और ना ही पुलिस को जानकारी देना जरूरी समझ। जब हमने सरपंच से बात की तो भी उन व्यक्तियों का नाम पता नही बता सके। उन्होंने इतना ही कहा कि मैने जांच कर ली थी पर मुझे उनका नाम पता नही मालूम।
    गांव के लोगों को बच्चे की बलि देने का अशंका…….
    गांव के लोग जिसमे जसवंत , नम्बरदार श्रवण सिंह , सुखदेव सिंह ,अशोक कुमार, करणवीर सिंह और प्रदीप जयसवाल ने सवांददाता को बताया कि सरपंच ने जिस तरह बिना पूछताछ से उन व्यक्तियों को जाने दिया वह संदेहास्पद है।
    उन्होंने शक जाहिर किया कि उक्ति व्यक्ति कही बच्चे की बलि देने के लिए तो नही आए थे।
    उन्होंने कहा कि पीपल वृक्ष के नीचे दीया जा कड़ाही देने के लिए हिमाचल प्रदेश से यहाँ आने की क्या जरूरत थी , उन्हें रास्ते मे कही पीपल का व्रक्ष नही मिला।
    जिसको बच्चे की माँ बताया पर बच्चे ने इंकार किया…….
    मजूद व्यक्तियों ने बताया कि जो औरतें बाद में आई और जिसने बच्चे को अपना बताया पर बच्चे ने उसे मॉ होने से इंकार कर दिया था।
    सरपंच ने आज पेश करने थे शकी शक्स…..
    गांव के सरपंच जसविंदर सिंह ने आज पंचायत में शकी व्यक्तियों को पांच वजे पेश करने की बात कही थी जसवंत ने बताया कि सात बजे तक वह पंचायत में पेश नही हुए।
    गांव वासी दीपा भी न बता सका शकी रिश्तेदार के नाम…..
    गांव के जिस व्यक्ति के पास यह शकी व्यक्ति आने की बात कही गई। वह भी अपने पास आने उन व्यक्तियों के नाम न बता पाया।
    सरपंच दुआरा पुलिस को इतलाह देना भी झूठ निकला…..
    थाना चब्बेवाल से इस संबंधी भाम पंचायत दुआरा लिखत दरख्वास्त देना भी झूठ निकला।
    एएसआई सुखदेव सिंह से बात की तो उन्होंने ऐसी किसी भी दरख्वास्त से इनकार किया।
    गाड़ी हिमाचल प्रदेश के चुराह शहर की…….
    उक्त शकी व्यक्ति जिस गाड़ी में आये थे वह मारुति आल्टो k-10 HP 44 2288  चुराह शहर जिला चंबा हिमाचल प्रदेश की है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here