गऊ माता और गौवंश के संरक्षण के लिए सरकार प्रयासरत:सीपीएस. धुग्गा

    0
    5

    -सी.पी.एस. देसराज धुग्गा ने नई सोच के पदाधिकारियों के साथ बैठक में की चर्चा
    होशियारपुर। पंजाब की अकाली-भाजपा गठबंधन सरकार गऊ माता और गौवंश के संरक्षण के लिए पूरी तरह से बचनबद्ध और प्रयासरत है। इसके लिए जहां पंजाब के अलग-अलग शहरों में कैटल पाउंड बनाए जा रहे हैं वहीं सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से इस कार्य को सफलतापूर्व चलाने के लिए भी यत्न किए जा रहे हैं। उक्त जानकारी सी.पी.एस. देसराज धुग्गा ने सामाजिक संस्था नई सोच के पदाधिकारियों के साथ बैठक में दी। श्री धुग्गा होशियारपुर नई सोच के कार्यालय में विशेष तौर से पहुंचे थे। इस दौरान नई सोच के कार्यों की सराहना करते हुए श्री धुग्गा ने कहा कि पालतू गायों एवं गौवंश को लोगों द्वारा सडक़ों पर छोड़ा जाना बेहद निंदनीय है और इसके लिए जरुरी है कि लोग गौमाता व गौवंश के संरक्षण को अपना कर्तव्य समझें और इन्हें सडकों पर छोडऩे से परहेज करें। श्री धुग्गा ने बताया कि पंजाब सरकार के प्रयास तभी सफल हो पाएंगे जब जनता इनमें पूर्ण सहयोग देगी। उन्होंने कहा कि नई सोच जैसी संस्थाओं की कार्यशैली से अब यह साफ हो चुका है कि प्रदेश में गौसेवा मिशन की सफलता को कोई नहीं रोक सकता। इस मौके पर नई सोच के संस्थापक अध्यक्ष अश्विनी गैंद ने सी.पी.एस. धुग्गा को संस्था के कार्यों की जानकारी देते हुए गौसेवा व रक्षा दौरान पेश आने वाली समस्याओं से भी अवगत करवाया। उन्होंने मांग की कि कैटल पाउंड बनाने की प्रक्रिया में तेजी लाई जाए तथा गायों व गौवंश को टैग लगाने की प्रक्रिया भी शुरु करते पशुओं की रजिस्ट्रेशन शुरु की जाए ताकि अगर कोई गाय एवं अन्य पशु को छोड़ता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई हो सके। श्री गैंद ने धुग्गा के माध्यम से पंजाब सरकार से मांग की कि अब देखने को मिल रहा है कि लोग अपने घोड़े, खच्चर एवं गधों को भी सडक़ों पर आवारा छोड़ रहे हैं। इसके लिए कोई कड़ा कानून न होने के चलते लोग इसका नायाज लाभ लेते हुए अमूल्य मानवीय जानों के लिए खतरा पैदा कर रहे हैं। इसलिए इसे रोकने के लिए सत से सत कानून बनाया जाए। इस मौके पर राष्ट्रीय हिन्दू शिव सेना पंजाब के अध्यक्ष कमल शर्मा कोठारी, अशोक शर्मा, राजेश शर्मा, नीरज गैंद, तिलक राज शर्मा, कश्मीर सिंह, पियूष सूद, राकेश कुमार, रमन कुमार व सोनू टंडन इत्यादि मौजूद थे।
    फोटो:- गऊ एवं गौवंश के संरक्षण हेतु सी.पी.एस. देसराज धुग्गा के साथ चर्चा करते नई सोच के संस्थापक अश्विनी गैंद व अन्य।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here