कैप्टन के मंत्री ने खोया आपा-प्रिंसिपल को सुनाया बर्खास्तगी का फरमान, मीडिया के सामने मुकरे

    0
    27

    JANGATHA TIMES: जालंधर : पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपनी पहली कैबिनेट बैठक में ये फैसला ले लिया था कि उनकी सरकार प्रदेश में वीआईपी कल्चर को खत्म कर देगी। इसके लिए बाकायदा विधायकों को वाहनों पर नीली बत्ती न लगाने का फरमान भी सुनाया गया लेकिन लगता है कैप्टन के मंत्रियों के मन में अभी भी नीली बत्ती व उद्घाटन पट्टिका पर अपना नाम लगवाने का क्रेज कम नहीं हुआ है। ताजा मामला कैबिनेट मंत्री साधू सिंह धर्मसोत से जुड़ा है। वीडियो में साधू सिंह धर्मसोत प्रिंसिपल को मौके पर सस्पेंड करने का धमकी देते दिखाई दे रहे हैं। दरअसल धर्मसोत नाभा के सरकारी गल्र्स स्कूल मे तकरीबन 1 करोड़ 30 लाख की लागत से बने 14 कमरों के संतोष देवी ब्लॉक का उद््घाटन करने पहुंचे थे। जैसे ही धर्मसोत ने नींव पत्थर से पर्दा उठाया तो अपना नाम नीचे लिखा देखकर वह भड़क गए। उन्होंने स्कूल प्रिंसिपल निशि जलोटा को कहा कि वे उन्हें सस्पेंड कर सकते हैं। वीडियो में प्रिंसिपल कहती हैं उनका कसूर नहीं है तो धर्मसोत अकड़ कर कहते हैं कि फिर किसका कसूर है, फंक्शन किसने आर्गनाइज किया। रोचक बात ये है कि उद्घाटन के बाद जब मीडिया ने उनसे उनके व्यवहार को लेकर सवाल किया तो धर्मसोत मुकर गए और बोले ऐसा तो कुछ हुआ ही नहीं। हालांकि इस दौरान वे अपने एक साथ पर खीझते भी दिखाई दिए। धर्मसोत के इस व्यवहार के दोनों वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here