कैप्टन किसानी कर्ज माफी का वादा करें पूरा: सांपला

    0
    10

    JANGATHA TIMES : मोगा : सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र बने यहां पास के गांव घल्लकलां में सवा एकड़ ज़मीन में स्थापित देश भगतपार्क में डॉ. भीम राव अंबेदकर आदम कद प्रतिमा का केंद्रीय मंत्री एवं पंजाब भाजपा प्रधान विजय सांपला ने लोकार्पण किया। इस पार्क में नौजवान पीढ़ी को इतिहास और विरसे से जोड़तीं उडऩे सिख मिलखा सिंह समेत तीन दर्जन से अधिक महान देश भगतों ओर अन्य हस्तियों की स्मारक स्थापित हैं।

    इस मौके केंद्रीय मंत्री विजय सांपला ने उद्यमी नौजवान मूर्तिकार मनजीत सिंह गिल और उसके भाई सुरजीत सिंह गिल की सराहना करते कहा कि बलिदान, त्याग और हुनर बयान करती यह स्मारकें हमारी आने वाली पीढिय़ों के लिए प्रेरणा स्रोत बनेंगी। उन्होंने इस पार्क की राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बना कर उन नौजवानों को विरसे और इतिहास से जोडऩे का जो प्रयास किया है, वह शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता। इस मौके उन्होंने डॉ. भीम राव अंबेदकर जी के जीवन बारे भी विस्तार से जानकारी देते कहा कि हमें देश भगतों के जीवन से सीख लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि बाबा साहिब जी एक ऐसा सूरज था, जिस ने राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक तौर पर पूरे विश्व को अपने ज्ञान से रोशन किया। उन्होंने समाज के दबे -कुचले लोगों का जीवन स्तर ऊंचा उठाने और महिलाओं को पुरुषों के बराबर मान -सत्कार दिलाने के लिए अहम योगदान पाया। इस मौके तरसेम सिंह रत्तिया व अन्य बड़ी संख्या में भाजपा और अकाली वर्कर व अन्य गांव निवासी मौजूद थे।

    इस मौके पत्रकारों के रूबरू होते केंद्रीय मंत्री विजय सांपला ने कहा कि यदि मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह किसानों से चुनाव से पहले किसानी खेती कर्ज 30 अप्रैल तक माफ नहीं किया जाता तो किसानों को नियमों अनुसार 4 की जगह 12 प्रतिशत ब्याज देना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि किसान कर्ज माफी की झांक में कर्ज की अदायगी नहीं कर रहे जिस कारण उन पर ब्याज का बोझ ओर अतिरिक्त पड़ जायेगा। उन्होंने कहा कि कैप्टन शीघ्र किसानों के कर्ज माफी का वायदा पूरा करें। इस मौके उन्होंने राज्य सरकार से मौसम ओर अन्य आपदाओं कारण खराब फसलों का मुआवजा 20 हजार रुपये प्रति एकड़ देने की मांग की। इस मौके उन्होंने अकाली -भाजपा सरकार समय शुरू की समाज भलाई स्कीमों को कैप्टन सरकार की तरफ से बंद करने का खदसा जाहिर करते कहा कि आटा दाल ओर अन्य स्कीमों के तहत लाभार्थी की जांच पड़ताल बाद ही ऐसे परिवारों को यह लाभ दिया गया था।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here