अयोध्या वासियों ने नम आँखों से प्रभु राम को वन में भेजा

    0
    42

    अयोध्या वासियों ने नम आँखों से प्रभु राम को वन में भेजा
    दशहरा महोत्सव के अवसर पर श्री रामलीला कमेटी (रजि.), होशियारपुर द्वारा श्री राम के वनवास का मंचन किया गया। लोगों ने नम आँखों से श्री राम जी, लक्ष्मण जी एवं जानकी सीता माता जी को वन भेजा। राम लीला मैदान में दिखाया गया कि महाराजा दशरथ की आज्ञा से श्री राम, लक्ष्ïमण व सीता जी वनवासी वस्ïत्र धारण कर वन की ओर चल पड़े। बहुत समझाने पर भी प्रेमवश अयोध्ïया निवासी उनके संग चले। प्रथम रात्रि उन्ïहोंने तमसा नदी के किनारे काटी। रात्रि के तीसरे पहर श्री राम ने सुमंत जी को कहा कि नगरवासियों को यहीं छोड़ कर हमें आगे चलना चाहिए। प्र्रभु राम की आज्ञा से सुमंत ने रथ को इस प्रकार चलाया कि कोई अनुमान नहीं लगा सके कि वे किस दिशा की तरफ गए हैं। प्रात: होते ही जब नगरवासियों को पता चला कि उनके प्रभु राम उनको छोडक़र चले गए हैं, तो वे हे राम-हे राम कहते हुए विलाप करने लगे। उधर जब निषादराज गुह को समाचार मिला कि उनके प्रभु राम वन में आए हैं तो वे आपने बन्धु-बांधवों सहित प्रभु राम के दर्शनों को पहुँचे। श्रीराम ने सुमंत को वापिस अयोध्ïया जाने के लिये प्रार्थना की और आग्रह किया कि महाराज दशरथ को हाथ जोड़ कर कहना कि वे हमारे लिये किसी बात की चिंता न करें। वहाँ से वे देव नदी गंगा के किनारे पहुँचे। जहां उन्होंने राम, सीता तथा लक्ष्ïमण को देव नदी गंगा की महिमा सुनाई। तदुपरान्ïत केवट ने प्रभु श्री राम चरण वन्दना कर माता सीता व लक्ष्ïमण सहित गंगा को पार किया। अयोध्ïया पहुँच कर जब सुमंत ने दशरथ को सारा वृत्तांत सुनाया तो श्रवण के माता-पिता के श्राप के कारण पुत्र वियोग में महाराज दशरथ ने प्राण त्याग दिए। प्रभु श्री राम की वनवास यात्रा एस.डी. सीनियर सकैण्ड्री स्कूल के प्रांगण से आरम्भ होकर बैंक बाजार, कनक मण्डी, दाल बाजार, प्रताप चौंक, कश्मीरी बाजार, घण्टाघर, गौंरागेट, शीशमहल बाजार, डब्बी बाजार, सराफा बाजार, पहाड़ी कटरा से होती हुई दशहरा मैदान में पहुँची। इस अवसर पर हजारों रामभक्ïतों के अलावा श्री रामलीला कमेटी (रजि.),होशियारपुर के अध्ïयक्ष श्री शिव सूद, कार्यकारी अध्यक्ष सेठ नवदीप कुमार अग्रवाल, मुख्य संरक्षक अरूण डोगरा मिक्की, चेयरमैन गोपी चन्द कपूर, महासचिव प्रदीप हांडा, डॉ. बिन्दुसर शुक्ला, मीडिया प्रभारी कमल वर्मा, संयोजक एडवोकेट आर.पी.धीर, मुख्यसचिव सुभाष चन्ïद्र गुप्ïता, कोषाध्यक्ष संजीव एरी, महाप्रबन्धक विनोद कपूर, मैनेजर शाम सुन्दर मोदगिल, सम्मान समारोह अध्यक्ष अरुण गुप्ता, योगेश कुमरा, पिड़पति नरोत्तम शर्मा, अजय जैन, सचिन हांडा, मुख्यमेला प्रबन्धक नीतिन गुप्ता (नन्नू), मुख्यसलाहकार राकेश सूरी, चीफशोभा यात्रा दविन्द्र नाथ विन्दा, जीवन ज्योति कालिया, मुख्य मेला प्रबन्धक शिव जैन, कृष्ण गोपाल आनन्द, राकेश डोगरा, कमल कुमार कैंथ, ईंचार्ज चीफ प्रचार मंत्री मनोहर लाल जैरथ, जतिन्द्र रिवाड़ी लली, दिनेश गुप्ता सोनू, रघुवीर वंटी, पार्षद विक्रम मेहता विकास अग्रवाल, राम कुमार (रामा जी), केवल कृष्ण हांडा, अशीष वर्मा, विपन वालिया, पिंकी सूद, दीपक शारदा, अनिल सूद (बौबी), कपिल हांडा, बलराम कुमार भार्गव मोती, हरीश आनन्द, मास्टर मनोज दत्ता, मास्टर कृष्ण गोपाल शर्मा, कुनाल चतरथ, दर्शन कुमार काका, तरसेम मोदगिल, संजीव अरोड़ा, रविन्द्र सैनी, कृष्ण चौबे, सुनील दत्त पराशर काका, पण्डित मदन मोहन कालिया एवं पण्डित संजीव शर्मा आदि मौजूद थे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here