अभी मैट्रो के सफर से दूर रहेंगे पंजाबी,बादलों के सपने हुए हवाई

    0
    6
    अभी मैट्रो के सफर से दूर रहेंगे पंजाबी,बादलों के सपने हुए हवाई
     चंडीगढ़ः बादल सरकार के सपनों के प्रोजैक्ट मैट्रो ट्रेन पर अल्पसंख्यकों ने ग्रहण लगा दिया है, जिस कारण पंजाब में अगले 20 सालों तक मैट्रो ट्रेन नहीं चलेगी। पंजाब बुनियादी विकास बोर्ड (पी.आई.डी.बी) के सर्वे में इस बारे साफ तौर पर सलाह दी गई है कि 1 करोड़ से कम संख्या वाले शहर में मैट्रो ट्रेन चलाने का कोई फायदा नहीं है।
    इसमें कहा गया है कि यह पूरा घाटे का सौदा है। लुधियाना की आबादी भी अभी तक 1 करोड़ से कम है, जिसे स्तर तक लाने में कम से कम 20 साल का समय लगेगा। सर्वे रिपोर्ट के बाद फिलहाल सरकार ने लुधियाना में मैट्रो प्राजैकट स्थगित कर दिया है। लुधियाना में भी अमृतसर की तरह बस रैपिड ट्रांजिट व्यवस्था (बी.आर.टी.एस) के प्राजैकट को ही लागू किए जाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। पंजाब बस मैट्रो सोसायटी के अधीन इस प्राजैकट को पूरा किया जाएगा। अमृतसर में इसी प्राजैकट के अंतर्गत 66 किलोमीटर की दूरी में 4 मार्गों पर तेजी से काम चल रहा है।

    पी.आई. डी. बी. ने 495.95 करोड़ रुपए के इस प्राजैकट को सितम्बर में जनता को सौंपने की तैयारी शुरू कर दी है। इस प्राजैकट के पूरा होने के बाद अमृतसर में बस अड्डा, रेलवे स्टेशन, जी.एन. डी. यू., बाइपास, इंडिया गेट, माल रोड, वेरका बाइपास, वेरका टाऊन और छेहरटा तक यातायात व्यवस्था बढ़िया हो जाएगी। यह भारत का पहला प्राजैकट होगा, जहां मैट्रो ट्रेन की तर्ज पर 93 आधुनिक बसें चलाईं जाएंगी।

    मैट्रो जैसी होंगी सुविधाएं 

    पी.आई.डी.बी. के जनरल मैनेजर ने कहा कि पहले यह प्राजैकट तैयार किया गया था परन्तु सर्वे के बाद स्थिति स्पष्ट कर दी है  इसलिए अब अमृतसर के प्राजैकट को सितम्बर में पूरा करके लुधियाना, फिर जालंधर और अन्य शहरों की तरफ बी.आर.टी.एस. प्राजैकट को लेकर काम किया जाएगा। हमारी तैयारी पूरी है। यह प्राजैकट मैट्रो की तरह ही है।

    क्या है बी.आर.टी.एस. प्रणाली?

    बस रैपिड ट्रांजिट प्रणाली एक बस आधारित जन यातायात प्रणाली है, जो कि कुछ शर्तों को पूरा करती है। बी.आर.टी.एस. प्रणाली आम तौर पर विशेष डिजाइन, सेवाओं और बुनियादी गुणवत्ता में सुधार और देरी के कारणों को दूर करने के लिए होती है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here