इंटरव्यू में इन गलतियों से बचें

    0
    171

    किसी के लिए भी इंटरव्यू ऐसा मौका होता है, जिसे वह नहीं गंवाना चाहता। कई बार अनजाने में हम से कुछ ऐसी गलतियां हो जाती हैं, जिनसे जॉब पाने का मौका हाथ से हमेशा के लिए निकल जाता है। जानते हैं इंटरव्यू की कुछ छोटी-छोटी बातें, जिन्हें हमेशा ध्यान में रखना चाहिए:

    • समय: अक्सर देखा गया है कि इंटरव्यू के लिए लोग जल्दी पहुंचने की सोचते हैं, मगर हमेशा देर से पहुंचते हैं। ध्यान रहे जब आपकी बारी आ गई हो, तब आपकी अनुपस्थिति आपके अवसर को हमेशा के लिए चलता कर देती है। इसलिए अगर आप किसी कारण देर से पहुंच रहे हैं तो एचआर एग्जीक्यूटिव को इसके बारे में बता दें, ताकि वह आपका इंटरव्यू टाइम थोड़ा पीछे सरका दे। इससे आपका इम्प्रेशन भी अच्छा पड़ेगा। बोर्ड को अपनी तरफ से अपने लेट होने के बारे में कोई जानकारी न दें। साथ ही यह भी बढ़-चढ़ कर न बताएं कि आप तो इंटरव्यू शुरू होने के काफी पहले से बाहर बैठे थे। जानकारों के अनुसार इससे उन्हें लगेगा कि आपके पास मार्केट में काम कम है।
    • हैंडशेक: अगर बोर्ड के सदस्य आगे बढ़ कर हाथ मिलाना चाहें तो हो सकता है वे आपके हाथ मिलाने से आपके आत्मविश्वास को जांचना चाहते हों। पूरे आत्मविश्वास से 3 सेकेंड तक का शैकहैंड निश्चित रूप से आपके नौकरी पाने की ओर बढ़ाया गया मजबूत कदम होगा।
    • शालीन रहें: एक प्रतिष्ठित कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट बताते हैं, यह मत सोचिए कि गलियारे या वेटिंग एरिया में खड़े होकर आप कुछ भी कर सकते हैं। या फिर जो कुछ आप रिसेप्शनिस्ट या असिस्टेंट से कहेंगे, उसका कोई असर नहीं पड़ेगा। कई दफा आपकी छोटी सी भी अभद्र हरकत नौकरी के अवसर को खोने के लिए काफी होती है।
    • झूठे तथ्य न रखें: पुराने बॉस की निंदा करना वर्तमान नियोक्ता पर नकारात्मक असर डाल सकता है। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपकी छवि नकारात्मक रवैये वाले उम्मीदवार की बनेगी। एक ऐसा व्यक्ति, जो लोगों के साथ मिल कर नहीं चल सकता। वैसे भी पुराने बॉस की निंदा करने से आपको अच्छा बॉस नहीं मिल जाएगा। अक्सर ऐसी हरकत मुश्किल पैदा कर देगी।

    एक बार एक वरिष्ठ उम्मीदवार ने दावा किया कि ये प्लांट मैंने बनाया है, लेकिन आगे चल कर कुछ सवाल पूछने पर यह स्पष्ट हो गया कि उसकी भूमिका एग्जीक्यूटिव असिस्टेंट की थी। साथ ही यदि आप मैनेजमेंट के छात्र हैं तो अपने प्रोजेक्ट में अपने पार्टनर को श्रेय देना न भूलें। यहां तक कि वरिष्ठ स्तर पर होने पर यह कहना ज्यादा बेहतर होगा कि मैं भाग्यशाली था कि मुझे उस टीम का हिस्सा बनने का मौका मिला।

    • शब्दों पर ध्यान दें: अपने शब्दों के साथ-साथ अपने लहजे पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए। नियोक्ता से अनौपचारिक होकर बात न करने लगें यानी दोस्त की तरह व्यवहार न करें। ज्यादा दोस्ताने वाला अंदाज आपकी नकारात्मक छवि स्थापित कर सकता है।
    • बॉडी लैंग्वेज: इंटरव्यू की अच्छी तैयारी के बावजूद कई बार उम्मीदवारों को निराश होकर लौटना पड़ता है। देर से पहुंचना, नियोक्ता के सामने चुइंगगम चबाना, फोन पर बात करना, बाल बनाना आदि कुछ सामान्य गलतियां हैं, जो अंक कम कर देती हैं। हाथ-पैर हिलाना, बार-बार होठों पर जीभ फेरना भी आपके आत्मविश्वास की कमी को दर्शाता है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here