इंफेक्शन और बीमारियों से बचाएंगे Ayurveda के ये 3 ड्रिंक

0
68

हैलथ : बारिश (Monsoon) कई तरह के इंफेक्शन और बीमारियों का समय होता है। ऐसे में सर्दी, खांसी, मलेरिया, डेंगू, पेट में संक्रमण, बुखार, टाइफाइड और निमोनिया मानसून के दौरान बहुत आम हैं। इन सभी संक्रमणों के जोखिम के कारण विशेषज्ञ हमेशा लोगों से सादा, संतुलित और ताजा पका हुआ भोजन करने के लिए कहते हैं। साथ ही कुछ ऐसे ड्रिंक्स को पीने की सलाह देते हैं, जो औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं।

आयुर्वेद डॉक्टर ऐश्वर्या संतोष ने बारिश के दिनों इंफेक्शन और गंभीर बीमारियों से बचने के लिए लिए आयर्वेदिक गुणों से संपन्न कुछ ड्रिंक्स की रेसिपी शेयर की है। हाल ही में अपने इंस्टाग्राम पर पोस्ट के जरिए मानसून ड्रिंक्स(Monsoon Drinks) के फायदे और तैयार करने के तरीके को समझाते हुए डॉ संतोष लिखती हैं कि मानसून का समय आ गया है। ऐसे में मैंने यहां 3 चाय की रेसिपी बताई हैं जिन्हें आप मानसून के दौरान संक्रमण और बीमारियों से बचने के लिए इसका सेवन कर सकते हैं।

​मानसून के मौसम में ये गलतियां पड़ सकती है भारी

तला हुआ खाना खाना
हरी पत्तेदार सब्जियों को ठीक से न धोना
मांस और सी-फूड का सेवन
बाहर का खाना
इस मानसून ये आयुर्वेदिक ड्रिंक्स रखेंगे आपके सेहत का ध्यान
​सूखे अदरक-धनिया की चाय करती है दवा का काम

सूखे अदरक में कई तरह के औषधीय गुण पाए जाते हैं जो आपके शरीर को कई तरह की गंभीर बीमारियों से बचाने का काम करते हैं। आयुर्वेद डॉक्टर बताती हैं कि सूखे अदरक से तैयार की गई चाय औषधीय काढ़ा होती है जो बारिश के दिनों में आपके बॉडी को अंदर से गर्म रखती है। साथ ही इस मौसम में होने वाले सर्दी, जुकाम, पाचन की गड़बड़ी, कमजोर इम्यूनिटी, बलगम और सीने में भारीपन की समस्या से निजात दिलाने का काम करती है।

सामाग्री

सूखे अदरक का पाउडर- 1 चम्मच
धनिया के बीज -1 चम्मच
काली मिर्च- 1चम्मच
जीरा पाउडर- 2 चम्मच
स्वादानुसार गुड़
पानी- 3 कप

कैसे करें तैयार

चाय को तैयार करने के लिए इन सभी सामाग्री को एक साथ पानी में 15 तक उबाल लें। फिर इसे छानकर इसका तुंरत सेवन कर लें।

​तुलसी-नींबू की चाय रखती है इंफेक्शन को दूर

आयुर्वेदा डॉक्टर बताती हैं कि तुलसी और नींबू का मिश्रण की औषधीय गुणों से भरपूर होता है। बारिश के दिनों में इसका सेवन बहुत फायदेमंद होता है। यह मिश्रण नाक बहने, सर्दी-जुकाम, संक्रमण को खत्म करने के साथ सीने में जमा होने वाले कफ को पिघलाने का काम करता है।

सामाग्री

पानी- 3 कफ
तुलसी की पत्तियां- 1/2 कप
नींबू का रस- 4 चम्मच

कैसे करें तैयार

इस मिश्रण को तैयार करने के लिए 3 कप पानी में तुलसी की पत्तियों को 10 मिनट तक उबाल लें। फिर इसे छानकर इसमें नींबू का रस मिलाकर पीने से बहुत फायदा होता है।

​मुलैठी और मिश्री है गले की खराश के लिए रामबाण इलाज

आयुर्वेद डॉक्टर ऐश्वर्या बताती हैं कि मुलैठी और मिश्री से तैयार मिश्रण गले की खरास का रामबाण इलाज है। इसके साथ ही यह गले से संबंधित सभी प्रकार की परेशानियों को खत्म करने के साथ बॉडी की इम्यूनिटी को बूस्ट करने का काम भी करती है।

सामाग्री

मुलैठी पाउडर- 3 चम्मच
मिश्री – देढ़ चम्मच
पानी- 3 कप

कैसे करें तैयार

इस मिश्रण को तैयार करने के लिए आपको सबसे पहले पानी में मिश्री को तब तक उबालना है जब तक यह अच्छी तरह घुल न जाएं। इसके बाद इसमें मुलैठी का पाउडर मिलाकर 10 मिनट तक थोड़ा और उबाले फिर इसे छान लें। अब यह आपके सेवन के लिए बिल्कुल तैयार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here