हमारी हवा छीनकर अपनी हवा बनाने में लगे हैं छोटे-बड़े सरकार; बढ़े प्रदूषण पर बोले कुमार विश्वास

0
161

नई दिल्ली। न्यूज़ डेस्क। दिवाली के बाद दिल्ली में प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। सरकार द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने के बाद भी दिवाली पर खूब पटाखे जलाए गए। इस पर सियासत भी गर्म हो गई है। सोशल मीडिया यूजर्स भी इस पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

कवि कुमार विश्वास ने अपना एक पुराना ट्वीट रीशेयर करते हुए लिखा कि यह 4 साल पुराना ट्वीट, हर साल और ज्यादा भयावहता के साथ सामने आ जाता है। 999 AQI? हर बात पर राजनीति, धर्म जाति वोट, एक दूसरे पर दोष लगाया जा रहा है। इस समस्या का समाधान कौन निकालेगा? सारे रहनुमा तो अपने वोट की चिंता में लगे हैं। छोटे-बड़े सरकार हमारी हवा छीन कर अपनी हवा बनाने में लगे हैं।

आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने लिखा कि जिनके दिमाग में जहर होगा वही हवा में जहर डालने के लिए पटाखे दगाएंगे। अपने बच्चों का जीवन जोखिम में डालना कौन सी अक्लमंदी है। संजय सिंह के इस बयान पर बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कहा, पटाखे पूरे देश और दुनिया में चले लेकिन प्रदूषण सिर्फ दिल्ली में क्यों हुआ? क्योंकि दिल्ली की भ्रष्ट सरकार को प्रदूषण नहीं दिवाली रोकना है।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि प्रदूषण के लिए काफी हद तक बीजेपी जिम्मेदार है, क्योंकि उसने लोगों को धर्म के नाम पर उकसाया। बीजेपी नेताओं ने हर समय बयान दिए कि पटाखे जलाने से कुछ नहीं होता, यह धर्म और त्यौहार का मामला है। बीजेपी नेता अजय सेहरावत ने पंजाब के खेत में जलाई जा रही पराली का वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि माय लॉर्ड पटाखों से प्रदूषण है तो ये पंजाब के खेतों में क्या खुशबू वाली अगरबत्ती जल रही है।

मधुरेंद्र कुमार (@Madhurendra13) ने दो तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, अंतर देखिए….प्रदूषण की मोटी चादर किस तरह से वातावरण पर भारी है। जब तक तेज हवा नहीं चलती या फिर बारिश नहीं होती दिल्ली एनसीआर को इस प्रदूषण से छुटकारा नहीं मिलेगा। अजीत अंजुम ने लिखा, धुंध और धुएं ने ऐसी सुबह बना दी कि बिना वॉक ही लौटना पड़ा। पटाखा न चलाने की तमाम नसीहतें शोर और धुएं में दम तोड़ती रहीं। गौरतलब है कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा गुरुवार की शाम जारी बुलेटिन के अनुसार एक्यूआई 382 (बेहद खराब) कैटेगरी में था। जबकि दोपहर के बाद प्रदूषण की स्थिति और गंभीर हो गई थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here