बर्खास्त डीएसपी सेखों ने भरा नामांकन : कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु और सिद्धू के खिलाफ निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव

0
147

लुधियाना। संवाददाता। पंजाब पुलिस के बर्खास्त डीएसपी बलविंदर सिंह सेखों ने कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु के खिलाफ आजाद उम्मीदवार के तौर पर नामांकन पत्र दाखिल किया। उनका कैबिनेट मंत्री के साथ पुराना विवाद चल रहा है। इससे पहले कैबिनेट मंत्री के खिलाफ उनके दो और नजदीकी तरुण जैन बावा और गुरप्रीत सिंह गोगी भी नामांकन पत्र दाखिल कर चुके हैं। इसके अलावा बलविंदर सेखों ने पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ अमृतसर ईस्ट से भी नामांकन पत्र दाखिल किया है।

बलविंदर सेखों ने कहा कि भारत भूषण आशु ने अहंकार में आकर उनका कैरियर बर्बाद किया। इस तरह के अहंकारी व्यक्ति का अंत होना जरूरी है। उन्होंने कहा कि सिमरजीत सिंह बैंस के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज किया है और उसे भी कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु बचा रहे हैं। बलविंदर सेखों पुलिस कमिश्नर कार्यालय के बाहर रेप पीड़िता के साथ धरने पर भी बैठते हैं।

पांच माह पहले डिसमिस हुए बलविंदर सेखों

नगर निगम में तैनात डीएसपी बलविंदर सिंह सेखों को अक्टूबर माह में बर्खास्त किया गया था। आरोप है कि सेखों ने ड्यूटी पर रहते समय मर्यादाओं का पालन नहीं किया और सोशल मीडिया पर सरकार के खिलाफ लिखता रहा। इन्हीं आरोपों के चलते सेखों पिछले लंबे समय से नौकरी से सस्पेंड चल रहा था। जांच के दौरान वह पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट भी चला गया था और उसकी याचिका पर सुनवाई अभी चल रही है, लेकिन इसी बीच सरकार ने उसकी बर्खास्तगी के आदेश जारी कर दिए।

सेखों के खिलाफ जारी किए गए पत्र में कहा गया था कि उसने 13 सितंबर 2019 से 30 नवंबर 2019 तक सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर गलत टिप्पणियां की हैं। यही नहीं नवंबर 2019 से दिसंबर 2019 तक पहली कमांडो बटालियन में ड्यूटी से गैरहाजिर रहा। यह भी आरोप है कि नौकरी जॉइन करते समय खाई सौगंध को भी तोड़ा है। सेखों को सरकार की तरफ से अपनी बात रखने और आरोपों को गलत सिद्ध करने का मौका दिया गया था, मगर वह ऐसा नहीं कर पाया। इसलिए सरकार ने उसे नौकरी से डिसमिस कर दिया।

मंत्री आशु के साथ हुई बात की ऑडियो हुई थी वायरल

2019 में बलविंदर सिंह सेखों नगर निगम में डीएसपी की पोस्ट पर तैनात था। उस समय कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु के साथ हुई उनकी बातचीत की ऑडियो वायरल हुई थी, जिसमें वह एक दूसरे को काफी बुरा भला बोल रहे थे। इस ऑडियो क्लिप के बाद दोनों में दूरियां काफी बढ़ गई थी।

उस समय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्दू थे और कहा जा रहा था कि सेखा सिद्धू के नजदीकी हैं। इसी कारण बलविंदर सेखों सीधे कैबनिट मंत्री के कार्यों में दखल दे रहा है। इसके बाद उसकी बदली पहली कमांडो बटालियन में कर दी गई। आरोप है कि इससे परेशान होकर वह सोशल मीडिया पर लाइव होकर सरकार पर ही सवाल खड़े करते रहा।

कैबिनेट मंत्री के खिलाफ खुलकर बोलते हैं सेखों

बलविंदर सिंह सेखों दो साल से सस्पेंड चल रहे थे। इस दौरान उन्होंने कई बार कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु पर निशाना साधा। विधायक सिमरजीत बैंस पर दर्ज हुए मामले में वह पीड़ित महिला के साथ धरने पर बैठते रहे हैं और बैंस के पीछे सीधे तौर पर कैबिनेट मंत्री का हाथ होने की बात करते रहे हैं। इस कारण भी वह चर्चा में रहे।

रेप पीड़िता का बेटा होगा पोलिंग एजेंट

विधायक सिमरजीत सिंह बैंस के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाने वाली महिला का बेटा बलविंदर सिंह सेखों का पोलिंग एजेंट होगा। पीड़िता भी आरोप लगाती रही है कि कैबिनेट मंत्री ने हमेशा सिमरजीत सिंह बैंस का बचाव किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here