दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा धार्मिक कार्यक्रम करवाया गया

0
256

होशियारपुर। दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा गौतम नगर आश्रम में धार्मिक कार्यक्रम करवाया गया। जिसमें अपने प्रवचनों में आशुतोष महाराज जी के शिष्य स्वामी विष्णुदेवा नंद जी ने कहा प्रयास किए बिन कोई भी कार्य पूर्ण नही होता। राह चाहे कैसी भी कठिन हो, किन्तु यदि आप अपने लक्षय के प्रति समर्पित है , उसको प्राप्त करने के लिए दृढ निष्ठा , लगन व तीव्र इच्छा से प्रयास करते हैं, तो निश्चय ही आप मंजिल को प्राप्त करोगे। उन्होने कहा कि इतिहास में असभ्य लोगों के उदाहरण हैं, जिन्होने शारीरिक विकृति के बावजूद महान लक्ष्य को प्राप्त किया। कुमारी लेहर गूँगी व अन्धी थी। लेकिन बावजूद इसके वे अनेक भाषाओ और विषयों की रचनाकार बन गई।
सूरदास जी भी अन्धे थेे पर श्रेष्ठ पदों के रचनाकार बन गए। चाण्कय और सुकरात बदसूरत थेे पर इंसान को खूबसूरत जिन्दगी जीने की कला सिखा गए और आज भी संसार उनके उपदेशें को याद करता है।
आगे उन्होने ने कहा कि शास्त्र ग्रंन्थ बताते है कि परम पिता ने श्रेष्ठ मानव तन इस लिए दिया है कि हम मोक्ष को प्राप्त करें। मानव जन्म को पाकर यह हमारा परम कर्तव्य बन जाता है के ईश्वर कि प्राप्ति की ओर अग्रसर हों। इसलिए इसके लिए हमें सतत प्रयास करना होगा।
उन्होने कहा कि अगर हमारे मन में ईश्वर के प्रति चाह है, प्रार्थना भी है कि तुम मिलो। किन्तु यदि आप अपने कदमों को सत्संग की और नहीं बढाते, तो आप अभी ईश्वर को प्राप्त नहीं कर सकते। आनंद नही पा सकते। एक सोए हुए शेर के मुँह में हिरण स्वयं प्रवेश नही करता। आम की गुठली में आम पैदा करने का गुण है, कि न्तु बिना बोये , बिना पुस्षार्थ के कुछ भी प्राप्त नहीं हो सकता।
अंत में स्वामी जी ने कहा कि हर काम को आप तकदीर पर नहीें टाल सकते। स्वामी विवेकानन्द जी भी इसी बात को कहते है उठो जागो और अपनी स6पूर्ण श1ित अपने लक्षय को पाने में लगा दो। आखिर यह जीवन है ही कितना तुम यदि संसार में आए हो, तो कुछ तो अन्तर साबित करो, स्वयं में और पेड पौधों और जानवरों में।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here